comScore

कोरोना : 15 और पॉजिटिव मिलने के बाद नागपुर में कुल संख्या 1,285 हुई, 2 महिला जजों समेत कोर्ट के 23 स्टाफ की कोरोना जांच

कोरोना : 15 और पॉजिटिव मिलने के बाद नागपुर में कुल संख्या 1,285 हुई, 2 महिला जजों समेत कोर्ट के 23 स्टाफ की कोरोना जांच

डिजिटल डेस्क, नागपुर। उपराजधानी में कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। रविवार को 15 और पॉजिटिव मिलने के बाद अब कुल संख्या 1,285 तक पहुंच गई है। एम्स में 4 पांचपावली में क्वारेंटाइन की रिपोर्ट आई। जबकि मेडिकल में एक संदिग्ध की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। वहीं मेयो में 2 संदिग्धों की रिपोर्ट पॉजिटिव तो निजी लैब में 8 मरीज अमरावती, दिल्ली, रामदास पेठ, मेंहदीबाग, कामठी, त्रिमूर्ति नगर के एक- एक और खरबी के 2 मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए।  

शनिवार तक संख्या 1270 पर पहुंची थी

इससे पहले शनिवार को शाम 6 बजे तक 65 मरीज पॉजिटिव आए थे। जिन्हें मिलाकर शहर में संक्रमितों की कुल संख्या 1270 पर पहुंच गई थी। एम्स से 31, मेडिकल से 5, मेयो से 1, निजी लैब से 6, मुंबई लैब से 1 और नीरी से 21 नमूने पॉजिटिव पाए गए हैं। एम्स में पॉजिटिव आए मरीज पांचपावली के थे। मेडिकल के 5 पॉजिटिव सैंपल वीएनआईटी क्वारेंटाइन सेंटर से लिए गए थे। मेयो में एक संदिग्ध का सैंपल, निजी लैब में पाॅजिटिव आए मरीजों में से 3 गणेशपेठ, 1 रामदासपेठ, 1 उप्पलवाड़ी और 1 मोमिनपुरा का है। नीरी में 21 पाॅजिटिव आए मरीजों के सैंपल पांचपावली क्वारेंटाइन सेंटर से लिए गए थे। इसके साथ ही कई सैंपल इन-कन्क्लूसिव भी निकल रहे हैं। जिसका अर्थ है कि, सैंपल से कुछ परिणाम नहीं निकल पाया है। बुधवार को नीरी लैब में 100 सैंपल लिए गए थे, जिसमें से 13 सैंपल इन-कन्क्लुसिव आए। इसी तरह मेडिकल मंे भी 4 सैंपल का परिणाम नहीं निकल पाया।शनिवार को एम्स से 5 मरीज डिस्चार्ज होकर घर गए। मेडिकल से 15 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज किए गए, जिनमें 5 नाईक तालाब बांग्लादेश के, शांति नगर के 5 और पांचपावली के 5 मरीज डिस्चार्ज हुए हैं। साथ ही मेयो के 12 मरीज डिस्चार्ज हुए।

2 महिला जजों समेत कोर्ट के 23 स्टाफ की कोरोना जांच

शनिवार को दो निचली अदालतों की महिला जजों समेत कुल 23 कोर्ट स्टाफ की कोरोना जांच की गई। कुछ दिनों पूर्व अदालत में एक आरोपी को पेश किया गया था, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है। उसके बाद यह कदम उठाया गया है। दोनों जेएमएफसी कोर्ट हैं। कुछ दिनों पूर्व हुड़केश्वर पुलिस ने छेड़छाड़ के आरोपी को कोर्ट में पेश किया था। आरोपी के कोरोना पॉजिटिव निकलने के बाद 4 पुलिस कर्मियों को होम क्वारेंटाइन किया गया था। ऐसे में कोर्ट की कार्रवाई के दौरान जिन न्यायिक अधिकारी-कर्मचारियों के संपर्क में आरोपी आया, उनकी भी जांच कराने का फैसला लिया गया। सभी ने शहर के इंदिरा गांधी शासकीय अस्पताल व महाविद्यालय (मेयो) में अपना सैंपल जांच के लिए दिए। एहतियातन शनिवार को कोर्ट की कार्रवाई बंद रखी गई। डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष एड. कमल सतुजा ने बताया कि शनिवार को सुरक्षा प्रोटोकॉल के तहत न्यायिक अधिकारियों और कोर्ट कर्मचारयों की जांच कराई गई। किसी को क्वारेंटाइन सेंटर नहीं भेजा गया है। जांच की रिपोर्ट आने का इंतजार है। करीब दो दिन इन दोनों न्यायालयों का कामकाज नहीं होगा।

थाने से लेकर कोर्ट तक हड़कंप

उल्लेखनीय है कि आरोपी को हुड़केश्वर थाने के लॉकअप में रखा गया। थाने के एक अधिकारी और तीन कर्मचारियों द्वारा इसे कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने आरोपी को न्यायिक हिरासत में भेज दिया था, जिसके बाद आरोपी को नागपुर मध्यवर्ती कारागृह रवाना किया गया। आरोपी के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि के बाद पुलिस थाने और न्यायालय में हड़कंप मच गया।

कमेंट करें
h2OKN