comScore

गृह मंत्रालय की एडवाइजरी- स्वतंत्रता दिवस पर सार्वजनिक समारोह करने से बचें, टेक्नोलॉजी का करें इस्तेमाल

गृह मंत्रालय की एडवाइजरी- स्वतंत्रता दिवस पर सार्वजनिक समारोह करने से बचें, टेक्नोलॉजी का करें इस्तेमाल

डिजिटल डेस्क,नई दिल्ली। देश में जारी कोरोना संकट का असर इस बार स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त) के समारोह पर भी दिखने वाला है। दरअसल कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार कोशिश कर रही है कि, स्वतंत्रता दिवस भी सोशल डिस्टेंसिंग और तमाम सावधानी बरतते हुए मनाया जाए। जिसके चलते गृह मंत्रालय (MHA) ने शुक्रवार को स्वतंत्रता दिवस समारोह के लिए एडवाइजरी जारी की है। एडवाइजरी में सभी सरकारी कार्यालयों, राज्यों, राज्यपालों आदि से कहा गया है कि, वे सार्वजनिक समारोह करने से बचें और समारोहों के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करें। मंत्रालय ने बताया है, इस साल स्वतंत्रता दिवस किस तरह से मनाया जाएगा। 

गृह मंत्रालय ने अपनी एडवाइजरी में कहा है, हम हर साल स्वतंत्रता दिवस को बड़े ही शान, जोश और उत्साह के साथ मनाते हैं। इस बार भी राष्ट्रीय त्योहार के महत्व को देखते हुए मनाया जाएगा, लेकिन कोरोना के कारण इस बार कई नियमों का पालन करना होगा।

MHA की एडवाइजरी के मुताबिक, स्वतंत्रता दिवस पर कार्यक्रमों का आयोजन करते वक्त हमें सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क, सैनिटाइजेशन, पब्लिक गैदरिंग से बचने के साथ ही होम मिनिस्ट्री और स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी तमाम नियमों का पालन करना जरूरी होगा। 

गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों से कहा है, 15 अगस्त को कार्यक्रम के दौरान तकनीक का इस्तेमाल करें, इसके जरिए ज्यादा से ज्यादा लोगों तक कार्यक्रम को पहुंचाया जा सकता है। वेब कास्ट के माध्यम से कार्यक्रम के प्रसारण से लोगों की भीड़ भी कम हो सकेगी और कार्यक्रम की पहुंच भी ज्यादा होगी।

हालांकि सरकार लगातार कोरोना योद्धाओं को प्रोत्साहित करती रही है। गृह मंत्रालय ने भी राज्यों को सलाह दी है कि, स्वतंत्रता दिवस के मौके पर कोरोनावारियर्स, डॉक्टर, हेल्थ वर्कर्स को विशेष तौर पर बुलाया जाए। साथ ही कार्यक्रम में कोरोना को हराकर वापस लौटने वालों को भी बुलाया जाए।

गृह मंत्रालय ने सलाह दी है, मिलिट्री बैंड के रिकॉर्ड किए गए वीडियो को 15 अगस्त के दिन बड़े स्क्रीन पर दिखाया जाए। कार्यक्रम को डिजिटल तरीके से सफल बनाने की कोशिश की जाए। वहीं स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हर साल हर राज्य के राजभवन में 'एट होम' कार्यक्रम की परंपरा रही है। इस कार्यक्रम में राजभवन में राज्य के मुख्यमंत्री और वरिष्ठ मंत्रियो समेत कई गणमान्य लोग हिस्सा लेते हैं, लेकिन इस साल कोरोना के चलते एट होम कार्यक्रम होगा या नहीं, इसका फैसला राज्यपालों पर छोड़ दिया गया है। मंत्रालय द्वारा सलाह दी गई है, अगर एट होम कार्यक्रम होता है तो सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क सुनिश्चित किया जाए।

कमेंट करें
d8zeJ