अलर्ट: मुंबई समेत राज्यभर में ड्रोन हमले का खतरा, महाराष्ट्र पुलिस पूरी तरह हुई चौकस

January 12th, 2022

डिजिटल डेस्क, मुंबई। गणतंत्र दिवस से पहले मुंबई समेत महाराष्ट्रभर में ड्रोन हमले का खतरा मंडरा रहा है। केंद्रीय खुफिया एजेंसियों को इस बात की भनक लगी है कि कुछ लोग डार्क नेट का इस्तेमाल कर राज्य में ड्रोन हमले की साजिश रच रहे हैं। खतरे के मद्देनजर मुंबई समेत राज्य के सभी जिलों की पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है। आम लोगों से भी चौकसी बरतने की अपील की गई है। फिलहाल राज्य में एंटी ड्रोन सिस्टम नहीं है इसलिए पुलिस को ज्यादा एहतियात की जरूरत है। पाकिस्तान से सटे राज्यों पंजाब और जम्मू कश्मीर में अक्सर सीमा पार से ड्रोन के जरिए हथियार भेजे जाने और निगरानी के मामले सामने आते रहते हैं लेकिन अब महाराष्ट्र में भी आतंकी संगठन और उनसे सहानुभूति रखने वाले आतंकी हमले की फिराक में हैं। ड्रोन पर विस्फोटक लादकर 20-30 किलोमीटर दूर बैठकर उससे तय ठिकाने पर धमाका कराया जा सकता है। कुछ महीनों पहले सऊदी अरब के तेल संयंत्र पर ड्रोन के जरिए हमला हो चुका है। मुंबई में भी समुद्र के रास्ते 26/11 हमला हुआ था। इसलिए इस बात की आशंका बनी हुई है कि आतंकी संगठन ड्रोन हमले के लिए समंदर के रास्ते का इस्तेमाल कर सकते हैं। आतंकी आपस में संपर्क के लिए डार्क नेट के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं इसके चलते पुलिस की मुश्किल और बढ़ गई है। महाराष्ट्र साइबर के आईजीयशस्वनी यादव के मुताबिक डार्क नेट का इस्तेमाल कर आतंकी संगठनों और उनसे सहानुभूति रखने वालों के बीच बातचीत की जानकारी अक्सर सामने आती है लेकिन डॉर्क नेट पर नजर रखना बेहद मुश्किल है। टोर ब्राउजर के जरिए इस्तेमाल किए जाने वाले डार्क नेट इंटरनेट का 99 फीसदी हिस्सा है। लेकिन यह सामान्य तौर पर नजर नहीं आता इसलिए इस पर नजर रख पाना बेहद मुश्किल है। सुरक्षा एजेंसियों से बचने के लिए इसमें प्रॉक्सी बाउंसिंग का इस्तेमाल किया जाता है। राज्य के गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटील के मुताबिक साइबर सुरक्षा के लिए सरकार सभी संभव कदम उठा रही है। इस बार बजट में साइबर सुरक्षा के लिए 900 करोड़ रुपए की परियोजना का प्रावधान किया गया है।