comScore

हॉस्पिटल और पेशी से संक्रमित होकर लौट रहे बंदी - जिला जेल में जेलर के अलावा 49 बंदी पॉजिटिव मिल चुके

September 21st, 2020 15:38 IST
हॉस्पिटल और पेशी से संक्रमित होकर लौट रहे बंदी - जिला जेल में जेलर के अलावा 49 बंदी पॉजिटिव मिल चुके

- खजरी स्थित हॉस्टल को अस्थाई जेल में कर रहे तब्दील
डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा। जि
ला जेल में कोरोना संक्रमित तेजी से पैर पसार रहा है। कोविड-19 की जद में आए जेलर की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है। वहीं 49 बंदी कोरोना संक्रमित है। जेल प्रबंधन की माने तो अधिकांश संक्रमित हॉस्पिटल और पेशी से लौटने वाले है। वहीं नए बंदी भी कोरोना संक्रमित निकल रहे है।
जिले प्रबंधन के मुताबिक 49 संक्रमितों में से 38 बंदी अभी जिला अस्पताल में भर्ती है। 7 संक्रमित नेगेटिव होकर वापस जेल में लौट चुके है। इसके अलावा 4 बंदियों की रिहाई हो चुकी है। संक्रमितों की कांटेक्ट हिस्ट्री और नई आमद मिलाकर 140 बंदियों को जेल में बने क्वारेंटाइन सेंटर में रखा गया है। जेल को कोरोना के संक्रमण से मुक्त करना है तो अस्थाई जेल बेहद जरुरी है। हालांकि प्रशासन द्वारा खजरी रोड स्थित आदिवासी हॉस्टल को अस्थाई जेल बनाने की तैयारी शुरू कर दी गई है।
तीन बड़े बैरक में रखे जा रहे संदिग्ध बंदी-
जेल प्रबंधन द्वारा कोरोना संक्रमित बंदियों के कांटेक्ट में आने वाले 140 बंदियों को समय पर अलग कर दिया गया था। जेल के तीन बड़े बैरक को क्वारेंटाइन सेंटर में बदला गया है। समय रहते संदिग्ध और नई आमद को क्वारेंटाइन सेंटर में शिफ्ट करने से जेल के पुराने 550 बंदी कोरोना से बचे हुए है।
अस्थाई जेल 80 बंदियों को रखने की व्यवस्था-
जेल प्रबंधन के मुताबिक खजरी रोड स्थित पोस्ट मेट्रिक हॉस्टल को अस्थाई जेल में तब्दील किया जा रहा है। हॉस्टल मेें 50 से 80 बंदियों को रखने की व्यवस्था बनाई जा रही है। कलेक्टर और एसपी की मंजूरी मिलते ही इस अस्थाई जेल में नए बंदियों को रखना शुरू कर दिया जाएगा। संभावना जताई जा रही है कि अगले दो से तीन दिनों में अस्थाई जेल शुरू कर दी जाएगी।
अस्थाई जेल में यह होगी चुनौती-
- अस्थाई जेल की सुरक्षा बड़ा मुद्दा है। सुरक्षा व्यवस्था के लिए अतिरिक्त पुलिस टीम की आवश्यकता होगी।
- अस्थाई जेल में संदिग्ध बंदियों को रखा जाएगा। ऐसी स्थिति में जेल स्टाफ को कोरोना वायरस से बचाना भी बड़ी चुनौती होगा।
- यहां संक्रमण के फैलाव को रोकने सेनेटाइज और सफाई व्यवस्था का विशेष ध्यान रखना होगा। इसके लिए नगर निगम की महत्वपूर्ण भूमिका होगी।
क्या कहते हैं अधिकारी-
जिला अस्पताल और पेशी से लौटने वाले बंदी कोरोना संक्रमित आए है। अभी तक 49 बंदी पॉजिटिव आ चुके है। अन्य बंदियों को संक्रमण से बचाने अस्थाई जेल की व्यवस्था बनाई जा रही है।
- यजुवेन्द्र वाघमारे, अधीक्षक, जिला जेल
 

कमेंट करें
04j9S
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।