comScore

ड्रामा : "ग्रेजुएट" में बेरोजगारों की कहानी, कलाकारों के अभिनय ने बांधे रखा

ड्रामा : "ग्रेजुएट" में बेरोजगारों की कहानी, कलाकारों के अभिनय ने बांधे रखा

डिजिटल डेस्क, नागपुर। एक गरीब घर का लड़का, जिसे बीकॉम करने के 6 माह बाद भी नौकरी नहीं मिली, तो वो वह अमीर व्यक्ति के लिए काम करने लगता है, लेकिन उसका मालिक उसे अपने घर के पालतू कुत्ते की तरह समझता है। लड़का भी धीरे-धीरे पालतू कुत्ते की तरह व्यवहार करने लगता है। इस तरह एकांकिका "ग्रेजुएट' की कहानी मंचन के माध्यम से बताई गई। कै. गाेविंद हरि वेलणकर की स्मृति और श्री मधुसूदन वेलणकर प्रयोजित ‘सप्तक एकांकिका’ महोत्सव में हेमेन्दु रंगभूमि निर्मित ‘ग्रेजुएट और पराग घोंगे’ का कॉमेडी पैराडाइम शिफ्ट का मंचन साइंटिफिक सभागृह में किया गया। 

कलाकारों के अभिनय ने बांधे रखा

"ग्रेजुएट' एकांकिका में मालिक द्वारा कुछ ऐसा कृत्य किया जाता है, जिससे युवक की मौत हो जाती है। इस तरह नाटक में कलाकारों के अभिनय ने सभी को बांधे रखा। ग्रेजुएट का लेखन योगेश सोमण, दिग्दर्शन जयंत बंलावार का है। प्रकाश योजना प्रवीण खापरे, पार्श्व संगीत यशवंत निकाम, प्रियंका पाठक, नेपथ्य पूमन वाघाडे, वेशभूषा श्रेयस मंथनवार, रंगमंच व्यवस्था प्रशांत शेंडे, खुशाल रहांगडाले, आनंद देशपांडे, ज्योति जोगी, वेदांत रेखडे, जुइली बेडे, नमेश वाडबुधे, प्रशांत इंगले की है। मुख्य भूमिका में वेदांत देशमुख,प्रणाली गजभिये, यशवंत निकम, गजानन जैस, साक्षी जुनघरे ने भूमिका अदा की। 

श्रोताओं ने ठुमरी का आनंद लिया

वहीं मैफिल व चिटणवीस सेंटर द्वारा स्व. पं. शिवकिसन ओझा की स्मृति में नागेश अडगांवकर का गायन कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ विधायक गिरीश व्यास द्वारा सरस्वती पूजन कर माल्यार्पण के साथ किया गया। इस अवसर पर मैफिल के सचिव दिनकर कुकडे ने अतिथियों का स्वागत शॉल व श्रीफल देकर किया। दक्षिण मध्य सांस्कृतिक केन्द्र के संचालक डॉ. दीपक खिरवड़कर ने कलाकारों का सत्कार किया। नागेश अडगांवकर ने गायन की शुरुआत यमन राग से की। साथ ही श्रोताओं की फरमाइश पर "आओगे तुम ओ साजना' ठुमरी प्रस्तुत की। संचालन रवि दुरुगकर ने किया। गायक कलाकार के साथ तबले पर सचिन बक्षी और संवादिनी पर श्यमा ओझा ने संगत की। 

वृंदावन में कवियों ने रचनाओं से भरा जोश

उधर ऑथर्स गिल्ड ऑफ इंडिया के 44वें राष्ट्रीय अधिवेशन में कॉपी राइट एंड राइट्स ऑफ ऑथर्स द्वारा सेमिनार का आयोजन किया गया। डॉ. शिवशंकर अवस्थी, डॉ. कार्तिकेयन, पद्मश्री श्रीकृष्ण कन्हई, पद्मश्री योगेन्द्र, पद्मश्री डॉ. मोहन स्वरूप भाटिया सहित 150 से  अधिक रचनाकार शामिल हुए। गुरुकुल रोड स्थित श्री कृष्ण साधक ट्रस्ट वृंदावन के सभागृह में हुए दो दिवसीय अधिवेशन की अध्यक्षता प्रो. डॉ. गोविंद प्रसाद शर्मा ने की। अधिवेशन में काव्य गोष्ठी सत्र का भी आयोजन किया गया, जिसकी अध्यक्षता डॉ. अहिल्या मिश्रा ने की। कवयित्री सुधा काशिव ने अपनी रचनाएं सुनाईं। गुरुप्रताप आग ने सशत्र क्रांति पर रचना सुनाकर जोश भर दिया। लक्ष्मण सिंह डेहेरिया, अरुण मुनेश्वर तथा मोना वर्मा ने कविताओं के माध्यम से मनोरंजन किया। कार्यक्रम में ले. कर्नल दीपक दीक्षित, डॉ. अशोक कुमार, डॉ. बी. एल. गौड, डॉ. अमरेन्द्र नारायण, डॉ. उषा दुबे, डॉ. रमा सिंह, प्रकाश काशिव, डॉ. अशोक वर्मा, अरुण कुमार पासवान, सुदेश भाटिया आदि उपस्थित थे। संयोजन डॉ. अमिआधार निडर ने किया। 

गर्मी में हुआ ठंड का अहसास

एक तरफ नागपुर की गर्मी ने हाल-बेहाल कर दिया है। गर्मी  है, जो खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही है। नागपुर की गर्मी पर बेहतरीन पंचलाइन ने नागपुरियंस को गर्मी में भी ठंड का अहसास कराया। शहर के स्टैंपअप कॉमेडी कलाकार श्रेयस मनोहर ने अपनी कॉमेडी से सभी को गुदगुदाया। श्रेयस ने मराठी-हिंदी और अंग्रेजी तीनों भाषाओ में कॉमेडी की। कार्यक्रम का शुभारंभ शेफ विष्णु मनोहर और विजय जथे द्वारा विष्णु जी की रसोई में किया गया। इसके साथ ही वॉट्सएप और अंबानी कृपा विषय पर कॉमेडी प्रस्तुत की। श्रेयस मनोहर ने अमेरिका के कोलंबिया यूनिवर्सिटी से क्रिएटिव राइटिंग की पदवी प्राप्त की है। वे अमेरिका सहित मुंबई, पुणे, गोवा, हैदराबाद, बंगलुरु में भी कई कार्यक्रम प्रस्तुत कर चुके हैं। 


 

कमेंट करें
IZFEu