comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

शराब के नशे में धुत युवक को घर छोड़ने के बहाने लूटा, आरोपी फरार

शराब के नशे में धुत युवक को घर छोड़ने के बहाने लूटा, आरोपी फरार

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  एक व्यक्ति नशे में होने का फायदा तीन लुटेरों ने उठाया। घर छोड़ने का झांसा देकर उसे बीच रास्ते में ही लूट लिया। देर रात गणेशपेठ थाने में लुटेरों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया। आरोपियों की तलाश में सीसीटीवी कैमरे खंगाले जा रहे हैं। 

जानकारी के अनुसार रेशमबाग निवासी कौस्तुभ रमेश पात्रिकर (33) है।  दोपहिया वाहन क्र.-एम.एच.-40-एन.-1902 से कौस्तुभ घर जा रहा था। उस समय कौस्तुभ संभवत: नशे की हालत में था। उससे वाहन चलाया नहीं जा रहा था। बस स्टैंड के पास एक पानटपरी के सामने खड़े तीन युवकों ने उसे नशे में वाहन चलाने से मना किया और घर छोड़ देने की बात कही। इसके बाद एक युवक कौस्तुभ का वाहन चलाने लगा। कौस्तुभ को पीछे बिठाया, जबकि दो अन्य युवक अपने वाहन पर सवार हुए। यह युवक कौस्तुभ को घर छोड़ देने के बजाय उसे बेसा में एक सुनसान स्थान पर ले गए और अंधेरे में वाहन रोका, ताकि कौस्तुभ की डिक्की में अगर कोई कीमती माल मिले तो वह छीन कर भाग सके। जैसे ही युवकों ने डिक्की की तलाश लेनी चाही तो कौस्तुभ ने विरोध किया। शोर मचाने लगा। इससे युवकों को पकड़े जाने का डर सताने लगा। तीनों ने कौस्तुभ पिटाई कर दी और उसका दोपहिया वाहन, मोबाइल, तीन एटीएम कार्ड, कार के दस्तावेज और तीन सौ रुपए नकद, ऐसे कुल 40 हजार रुपए का माल लूटकर फरार हो गए। मामला थाने पहुंचा। आरोपियों की तलाश में सीसीटीवी कैमरों को खंगाला गया, लेकिन अभी तक आरोपियों का कोई सुराग नहीं मिला है। जांच जारी है।

हॉस्टल के कमरे से छात्र का लैपटॉप चोरी
एक छात्र का होस्टल के रूम से लैपटॉप चोरी हो गया। छात्र ने अंबाझरी पुलिस स्टेशन में घटना की जानकारी दी है। फरियादी छात्र सुनील रामराव अखंडे ( 31), निवासी पीजी अपर बॉयज होस्टल है। वह मूलत: काटोल का रहने वाला है। उसने पुलिस को बताया कि, 10 अक्टूबर को सुबह 10.30 बजे कैम्पस में किसी काम से गया था। इस दौरान उसका लैपटॉप रूम में ही रखा था। पीछे का दरवाजा बंद नहीं हो रहा था। ऐसे में सामने के दरवाजे को लॉक लगा कर गया था। वहां डाटा की जरूरत पड़ने पर वह शाम 4 बजे के करीब लैपटॉप लेने रूम पर आया, लेकिन लैपटॉप अपनी जगह पर नहीं था। काफी ढूंढ़ने पर भी नहीं मिला। लैपटॉप की कीमत 29 हजार रुपए थी। 

कमेंट करें
zI1q0
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।