चारों शवों का दाह संस्कार: पहले भी मदन ने दो बार आत्महत्या का प्रयास किया था

January 20th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर। कर्जे से त्रस्त होकर परिवार की हत्या और आत्महत्या करने के मामले में बुधवार को और एक खुलासा हुआ है। मदन अग्रवाल पहले भी आत्महत्या का प्रयास कर चुका है, लेकिन परिवार के सदस्यों ने उसे बचा लिया था। घटित प्रकरण से शाम के वक्त वैशाली नगर घाट में चारों शवों का दाह संस्कार िकया गया है। बुधवार को दिन भर मेयो अस्पताल में मदन अग्रवाल (39) उसकी पत्नी किरण (31), पुत्र वृषभ (12) और पुत्री तोषित उर्फ टीया (5) का शव विच्छेदन िकया गया। इस पूरे मामले की वीडियोग्राफी भी की गई। शाम के वक्त गमगीन माहौल में चारों शवों का दाह संस्कार िकया गया। 

पुलिस से भी छुपाया था

जोन क्र.पांच के उपायुक्त मनीष कलवानिया के अनुसार गत दो वर्ष में मदन ने दो बार आत्महत्या का प्रयास किया, हालांकि यह बात पुलिस रिकाॅर्ड में दर्ज नहीं है। परिवार के सदस्यों ने मदन को बचा लिया, लेकिन यह बात पुलिस से छुपाकर रखी गई थी। पहली बार उसने जहरीली गोलियों का सेवन िकया था, जबकि दूसरी बार जहर गटक लिया था। प्रारंभिक तौर पर अभी तक यही पता चला है कि मदन बुरी तरह से कर्जे में दबा हुआ था। इस चक्कर में उसका घर भी बिक गया था। मदन अपने परिवार पर जान छिड़कता था। पता चला है कि वह कई बार पत्नी से आत्महत्या कर कर्जे से छुटकारा पाने की बात िकया करता था, लेकिन पत्नी हर बार उसे यह कहकर समझाती थी कि उसके बाद बच्चों और उसका क्या होगा। वह दर-दर की ठोकर खाने को मजबूर हो जाएंगे। चर्चा है कि इसी कारण से उसने मन ही मन में भयंकर निर्णय लिया हो और परिवार की हत्या करने के बाद खुद भी फांसी पर झूल गया होगा। 

मोबाइल में लगा है लॉक

घटित प्रकरण को लेकर पुलिस के हाथ कोई सुसाइड नोट नहीं लगा है। जिससे पुलिस को उम्मीद है कि आत्महत्या से जुड़ा कोई राज मोबाइल में मिल सकता है। मोबाइल लॉक है। साइबर विशेषज्ञों की मदद से मोबाइल को खोलने का प्रयास िकया जा  रहा है। किरण और मदन की काॅल डिटेल्स भी मंगाई गई है।