दैनिक भास्कर हिंदी: छत्तीसगढ़ से घुसे हाथी, वनांचल में बने घरों को कर रहे तबाह, परेशान हैं कुसमी अंचल के ग्रामीण

August 25th, 2018

डिजिटल डेस्क, सीधी। छत्तीसगढ़ की सीमा पार कर वनांचल क्षेत्र कुसमी मे आए मेहमान हाथियों का झुंड आम जनों को नुकसान पहुंचा रहा है। पोंड़ी में तांडव मचाने के बाद हांथियों का झुंड अब ग्राम पंचायत अमगांव व करौटी के आधा दर्जन ग्रामीणों के माकान को बीती रात ढहा दिया है। हाथियों का झुंड अमगांव की बस्ती से महज एक किलोमीटर दूरी पर डेरा जमाए हुए हैं। हाथियों के उत्पात से ग्रामीण काफी दहशत में हैं।

हाथियों के झुण्ड से हो रही परेशानी के संबंध में सुधार पिता मोलई सिंह गोंड़ निवासी करौंटी ने बताया की रात करीबन 11.30 बजे घर मे टीबी देख रहा था तभी हाथियों के चिल्लाने की आवाज आई, बाहर जाकर देखा तो हांथियों का झुंड मेरे घर की तरफ  ही आ रहा था। मैंने घर के सभी सदस्यों को आवाज देकर हाथियों के आने की बात बताई और सभी लोग घर के बाहर भागते हुए गांव में पहुंचे और ग्रामीणों को इसकी जानकारी दी। जिस पर सभी ग्रामीण एकत्रित होकर पुन: घर तरफ  गए, तब हाथियों का झुंड घर ध्वस्त कर अनाज खा रहे थे।

बताया जा रहा है कि 50 किलो आटा, एक क्विंटल चावल, बीस किलो दाल, तीन क्विंटल धान, दो क्विंटल गेहूं खा गए। साथ ही ग्रहस्थी का सारा सामान नष्ट कर दिया तथा मक्का व धान की खड़ी फसल को रौंद डाला। इसके बाद मेरे पिता मोलई पिता हीरा सिंह के घर को ध्वस्त करते हुए 40 किलो आटा, 70 किलो चावल, पंद्रह किलो दाल तथा एक क्विंटल धान व गेहूं खा गए। करौंटी निवासी चौथे पीड़ित इंद्रप्रताप पिता मोलई ने बताया कि हाथी का बच्चा दरवाजा तोड़ रहा था। आवाज सुनकर पत्नी व बच्ची सहित घर की अटारी में चढ़ गया। हाथी का बच्चा अंदर प्रवेश कर घर की दीवार गिराया, तब मुझे वहीं से रास्ता मिला और परिवार सहित अटारी से उतरकर बाहर की तरफ भागा।

ग्रामीणों ने बताया कि हाथियों का झुंड धान, उड़द, अरहर आदि की फसलों को रौंदते हुए गांव के बाहर से सीधी रास्ता अपनाते हुए ग्राम पंचायत अमगांव मे पहुंचे जहां पीड़ित बइया पति कोदूलाल बैगा 60 वर्ष ने बताया की तकरीबन 2.30 बजे हांथियों का झुंड मेरे घर के पास आया और माकान ध्वस्त करने लगा। बताया की बगल के गांव करौंटी मे हमला करने पर सभी लोग घर मे डरे सहमे बैठे थे। हाथियों को आता देखकर घर से दूर भाग गए। पीड़िता ने बताया कि घर मे रखा डेढ़ क्विंटल चावल, ढाई क्विंटल गेहूं, दो क्विंटल धान खा गए तथा गृहस्ती का सारा सामान चौपट कर दिया।

ग्रामीणों ने बताया हाथियों का झुंड यहीं नहीं रुका, सड़क के दूसरी तरफ  बने सुधरी पति संतकुमार सोनी का भी पूरा घर धवस्त कर दिए। संयोग अच्छा था उस घर के लोग कहीं बाहर गए थे और घर खाली था। फिर भी घर मे रखा चार हजार रुपए का बिसातखाना का सामान, पचास किलो गेहूं, पचास किलो चावल खा गए तथा घरेलू सामान चारपाई,  बर्तन आदि नष्ट कर दिए।