लिधौरा थाना क्षेत्र के ग्राम जरुवा जौवा में लोकायुक्त ने मारा छापा: पूर्व सरपंच के घर से रोजगार सहायक को 40 हजार रुपए रिश्वत लेते पकड़ा

July 13th, 2022

डिजिटल डेस्क,टीकमगढ़। पंचायत के बिलों के भुगतान के एवज में पूर्व सरपंच से घूस मांगने की शिकायत पर मंगलवार को लोकायुक्त सागर ने कार्रवाई की है। लिधौरा तहसील क्षेत्र के जरुवा जौरा गांव में रोजगार सहायक पूर्व सरपंच के घर रिश्वत लेने आया था। उसे 40 हजार रुपए रिश्वत के साथ रंगे हाथ पकड़ा गया।
सरकारी तंत्र में भ्रष्टाचार जमकर फलफूल रहा है। पिछले कई सालों से ग्राम विकास के लिए एक साथ काम कर रहे सरपंच से रोजगार सहायक द्वारा घूस लेने का मामला सामने आया है।

लोकायुक्त डीएसपी राजेश खेड़े ने बताया कि लिधौरा तहसील क्षेत्र के जरुवा जौवा गांव निवासी महावीर प्रसाद यादव ने लोकायुक्त सागर से शिकायत की थी। जिसमें बताया कि ग्राम पंचायत जरुवा जौवा में पदस्थ रोजगार सहायक कालीचरण उर्फ संतोष कुशवाहा रिश्वत मांग रहा है। दरअसल, महावीर की पत्नी पूर्व में सरपंच थी, लेकिन कार्यकाल में कराए गए परकुलेशन टेंक, डक्ट व अन्य कार्य के बिल का भुगतान नहीं किया जा रहा था। भुगतान करवाने के लिए रोजगार सहायक से बार-बार आग्रह किया जा रहा था, लेकिन भुगतान के एवज में रोजगार सहायक कालीचरण द्वारा रिश्वत की मांग की जा रही थी।

शिकायत के बाद लोकायुक्त ने महावीर प्रसाद को एक टेप रिकॉर्डर दिया और रिश्वत देने की बातचीत रिकार्ड की। रिश्वत में 40 हजार रुपए देना तय किया गया।

पूर्व सरपंच के घर बुलाकर दी रिश्वत

लोकायुक्त ने शिकायत की तस्दीक करने के बाद मंगलवार को सुनियोजित तरीके से कार्रवाई को अंजाम दिया। लोकायुक्त ने महावीर प्रसाद को केमिकल लगे हुए 40 हजार रुपए दिए और महावीर ने रोजगार सहायक कालीचरण को रुपए ले जाने के लिए फोन किया। रोजगार सहायक महावीर के घर आ गया। पूर्व सरपंच के घर पर रुपए लेने के बाद इशारा मिलते ही तत्काल लोकायुक्त की टीम पहुंची और कालीचरण को गिरफ्त में ले लिया। हाथ धुलवाने पर हाथों से निकला रंग गुलाबी हो गया। लोकायुक्त पुलिस ने रोजगार सहायक के विरुद्ध भ्रष्टाचार अधिनियम की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया। कार्रवाई में डीएसपी राजेश खेड़े, निरीक्षक मंजू सिंह, रोशनी जैन सहित स्टाफ में अन्य सदस्य मौजूद थे।