comScore

ईएसआईसी ने ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल, राजाजीनगर, बैंगलोर में कथित रूप सेवाओं और सुविधाओं के प्रति गलत रिपोर्टिंग करने वाले कुछ टीवी चैनलों की खबरों का खंडन किया

October 14th, 2020 16:06 IST
ईएसआईसी ने ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल, राजाजीनगर, बैंगलोर में कथित रूप सेवाओं और सुविधाओं के प्रति गलत रिपोर्टिंग करने वाले कुछ टीवी चैनलों की खबरों का खंडन किया

केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआईसी) ने कुछ समाचार चैनलों द्वारा ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल, राजाजीनगर, बैंगलोर की ओर से प्रदान किए जाने वाले सेवाओं और सुविधाओं के प्रति कथित रूप से की गई गलत रिपोर्टिंग का खंडन किया है। इस संदर्भ में, ईएसआईसी ने स्पष्टीकरण देते हुए कहा है कि ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल, राजाजीनगर, बैंगलोर में बीमित श्रमिकों, बीमित व्यक्तियों, आईपी और उन पर आश्रित व्यक्तियों को सभी प्रकार की उपचार संबंधी सेवाएं प्रदान की जा रही है। ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल, राजाजीनगर कोविड-19 के लिए पहला उत्तरदायी अस्पताल और नामित किया गया कोविड हेल्थकेयर (डीसीएचसी) है, जिसने मार्च, 2020 से लेकर अबतक लगभग 60,690 रोगियों का ईलाज किया है। कॉलेज द्वारा मार्च, 2020 से आईसीएमआर द्वारा अनुमोदित किए गए आरटीपीआर और रैपिड एंटीजेन टेस्ट आयोजित करने के साथ-साथ कोविड-19 के रोगियों के इलाज का काम भी शुरू किया गया है। अस्पताल में कोविड-19 के सकारात्मक मामलों का भी सफलतापूर्वक निपटारा किया गया है। आईपी ​​और गैर-आईपी लोगों को चिकित्सा स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के अलावा, मरीजों और चिकित्सा स्वास्थ्य कार्मियों के लिए कोविड-19 महामारी के दौरान सुरक्षा के प्रति सजग रहना अस्पताल के लिए प्राथमिकता का विषय रहा है। लगाए गए आरोपों के जवाब में, यह भी जानकारी प्रदान की गई है कि अस्पताल में एन-95 मास्क, पीपीई सेफ्टी किट, त्रि-स्तरीय मास्क, दस्ताने एवं दवाओं के पर्याप्त भंडार मौजूद हैं। अस्पताल में रोगियों और कर्मियों की सुरक्षा से संबंधित चूक का एक भी उदाहरण अभी तक सामने नहीं आया है। सरकार द्वारा जारी किए गए निर्देशों के अनुसार, ईएसआईसी अस्पताल कोविड-19 महामारी के खतरे के साथ चल रही लड़ाई में शामिल हैं। ईएसआई कॉरपोरेशन द्वारा अपनी चिकित्सा सेवाओं की अवसंरचनाओं को कोविड-19 रोगियों के लिए खोल दिया गया है जिसमें आम नागरिक भी शामिल किए गए हैं। पूरे भारतवर्ष में लगभग 3,597 बिस्तरों वाले कुल 23 ईएसआईसी अस्पतालों ने आम जनता के लिए, विशेष रूप से कोविड-19 के रोगियों को चिकित्सा सेवाएं प्रदान करने के लिए कोविड-19 समर्पित अस्पतालों के रूप में कार्य किया है। इसके अलावा इन अस्पतालों में 213 वेंटिलेटर वाले कुल 555 आईसीयू/एचडीयू बेड भी उपलब्ध कराए गए हैं। इस मुश्किल घड़ी में, जब पूरा देश कोविड-19 महामारी से लड़ने के लिए प्रतिबद्ध है, मेडिकल और पैरा-मेडिकल बिरादरियां वास्तविक योद्धा के रूप में काम कर रहे हैं और वे कोविड-19 के विनाशकारी प्रभावों से जीवन की रक्षा करने के लिए अपने ड्यूटी से आगे बढ़कर काम कर रहे हैं। हालांकि मीडिया की भूमिका को कम करके नहीं आंका जा सकता है लेकिन ईएसआईसी इस मुश्किल घड़ी में उनसे सहयोग और सहनशीलता का अनुरोध करता है। ईएसआईसी द्वारा यह कहा गया है कि ऐसे मामलों की रिपोर्टिंग करते समय यह अपेक्षा की जाती है कि आधिकारिक चैनलों द्वारा प्राप्त तथ्यों को सत्यापित किया जाना चाहिए और गलत सूचनाओं का प्रसारण करने के बजाय नैतिक पत्रकारिता को ध्यान में रखते हुए रिपोर्टिंग की जानी चाहिए।

कमेंट करें
69mDU