दैनिक भास्कर हिंदी: 45 दिन यार्ड में रहेंगी ई‌वीएम, 12 सीटों से नहीं मिली अब तक कोई चुनौती

October 30th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। जिले की 12 विधानसभा क्षेत्रों में हुए चुनाव के बाद शहर के 6 विधानसभा क्षेत्रों की ई‌वीएम मशीनें कलमना यार्ड में पुलिस हिफाजत में रखी गई हैं। मतगणना के बाद 45 दिन तक मशीनें रखी जाती हैं। अगर चुनाव को कोर्ट में चुनौती दी गई तो मशीनों को कोर्ट के फैसले तक पुलिस हिफाजत में सुरक्षित रखा जाता है। जिले की 12 सीटों पर आए नतीजों को अभी तक किसी ने कोर्ट में चुनैाती नहीं दी है। 

ग्रामीण क्षेत्र की मशीनें तहसीलों में 
जिले में 6 विधानसभा क्षेत्र ग्रामीण इलाके में आते है। उमरेड विधानसभा की भिवापुर व कामठी विधानसभा की मशीनें मौदा तहसील कार्यालय में रखी है। काटोल, सावनेर, रामटेक व हिंगना विधानसभा की मशीनें क्रमश: काटोल, सावनेर, रामटेक व हिंगना तहसील कार्यालय में पुलिस बंदोबस्त में रखी गई है। 

45 दिन के बाद क्लीयर 
चुनाव नतीजे या इससे संबंधित प्रक्रिया को कोर्ट में चुनौती नहीं दी गई, तो चुनाव आयोग के निर्देश पर संबंधित मशीनों की फर्स्ट लेवल चेकिंग (एफएलसी) करके क्लीयर किया जाता है। इसके बाद चुनाव आयोग के आदेश पर जहां चुनाव होने है, वहां इन मशीनों को भेज दिया जाता है। 

नागपुर, रामटेक लोकसभा की मशीनें भी कलमना में 
नागपुर व रामटेक लोकसभा चुनाव को नागपुर हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है। इस कारण नागपुर व रामटेक लोकसभा चुनाव में इस्तेमाल ईवीएम, कंट्रोल यूनिट व वीवीपैट मशीनें कलमना यार्ड में रखी गई हैं। लोकसभा व विधानसभा में इस्तेमाल मशीनें कलमना में अलग-अलग यार्ड में रखी गई हैं।

ऐसी है व्यवस्था
चुनाव आयोग के दिशा-निर्देशों पर गौर करें तो मतगणना के 45 दिन तक ईवीएम (बीयू), कंट्रोल यूनिट (सीयू) व वीवीपैट मशीनें रखी जाती हैं। जिला प्रशासन ने एपीएमसी कलमना यार्ड परिसर के  मिर्ची बाजार के पास 10 कमरे लिए गए हैं। यहां शहर के दक्षिण-पश्चिम, दक्षिण, पूर्व, पश्चिम, मध्य व उत्तर नागपुर निर्वाचन क्षेत्र में इस्तेमाल हुई मशीनें रखी गई है। यहां 24 घंटे पुलिस तैनात है। जवानों के लिए भी एक कमरा बुक है। यहां की गतिविधियां सीसीटीवी में कैद हो रही है। जिले में 4412 मतदान केंद्र हैं। इसमें से 21 सौ से ज्यादा मतदान केंद्र शहर की छह विधानसभा क्षेत्रों में आती हैं। 
 

खबरें और भी हैं...