comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

चंद्रपुर में किसान ने की खुदकुशी, RTI से खुलासा- 6 साल में 15000 ने की आत्महत्या

चंद्रपुर में किसान ने की खुदकुशी, RTI से खुलासा- 6 साल में 15000 ने की आत्महत्या

डिजिटल डेस्क, मुंबई। चंद्रपुर की ब्रह्मपुरी तहसील के मेंडकी गांव निवासी एक किसान ने कुएं में कूदकर खुदकुशी कर ली। घटना बुधवार तड़के 4 बजे के दरम्यान की है। मृतक का नाम नामदेव चिरकुटा महाडोरे बताया जा रहा है। सुत्रों के अनुसार किसान नामदेव पर बैंक का 1 लाख रुपए का कर्ज था। ऐसे में वह चिंतित रहता था। इस कारण उनके द्वारा आत्महत्या करने की चर्चा चल रही है। नामदेव अपने पीछे पत्नी, तीन बेटे, बहुएं व नाती छोड़ गए हैं। 

आरटीआई से मिली जानकारी  6 साल में 15 हजार आत्महत्या

उधर मुंबई में आरटीआई से खुलासा हुआ कि राज्य में पिछले छह सालों में 15 हजार से ज्यादा किसान आत्महत्या कर चुके हैं। सूचना का अधिकार (आरटीआई) के तहत मिली जानकारी के मुताबिक साल 2015 तक लगातार बढ़ रहे किसान आत्महत्या के मामलों में धीरे-धीरे कुछ कमी आनी शुरू हुई है। आत्महत्या करने वाले किसानों में से सरकार ने करीब 58 फीसदी मामलों को ही आर्थिक सहायता देने के अनुकूल पाया है। आरटीआई कार्यकर्ता शकील अहमद शेख ने राजस्व विभाग से राज्य में किसान आत्महत्या से जुड़े आंकड़े मांगे थे। मिली जानकारी के मुताबिक साल 2013 से 2018 के बीच राज्य में कुल 15356 किसानों ने आत्महत्या की। इन मामलों में से राज्य सरकार ने 8911 को आर्थिक मदद देने के योग्य पाया है और 8868 मृत किसानों के परिवारों को आर्थिक मदद दे दी गई है। लेकिन आत्महत्या करने वाले 5713 किसानों के परिवारों को सरकार ने आर्थिक मदद देने योग्य नहीं पाया गया। इसके अलावा 732 मामलों में अभी सरकार मदद को लेकर कोई फैसला नहीं कर पाई है। इनमें से 59 मामले तो तीन साल से भी ज्यादा समय से सरकार के पास विचाराधीन हैं।

किस साल कितने किसानों ने की आत्महत्या

साल     आत्महत्या     पात्र     अपात्र     विचाराधीन      मदद दी गई
2013     1296          665      629            2             665
2014     2039        1358      678            7            1358
2015     3263        2152     1081           30           2150
2016     3080        1768     1292          20            1768
2017     2917        1638      987          292           1611
2018     2761        1330     1050          381           1316
कुल       15356        8911    5713          732           8868

कमेंट करें
iNpLQ
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।