comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

नागपुर के फिल्म निर्माता और दवा कारोबारी ने की आत्महत्या 

नागपुर के फिल्म निर्माता और दवा कारोबारी ने की आत्महत्या 

डिजिटल डेस्क, नागपुर। दवा कारोबारी व फिल्म निर्माता विनोद रामानी ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। घटना के समय विनोद रामानी घर में अकेले थे। उनका परिवार कहीं बाहर गया हुआ था। परिसर में दुर्गंध फैलाने पर घटना उजागर हुई। बताया जा रहा है कि कर्ज बाजारी के चलते उन्होंने यह कदम उठाया होगा। विनोद रामानी ने करीब दो वर्ष पहले एक हिंदी फिल्म "कॉफी विथ डी' नामक फिल्म बनाई थी। यह फिल्म दाउद इब्राहिम पर आधारित थी, यह कॉमेडी फिल्म थी। विनोद रामानी ने कुछ फिल्मों में अभिनय भी किया है। वह इस फिल्म के निर्माता थे। उनकी मौत की खबर से व्यापार जगत में हडकंप मच गया है। विनोद रामानी की दवा की शहर में 5 बडी दवा की दुकानें संचालित हो रही हैं। उनका लाखों रुपए का कारोबार है। विनोद रामानी का एक भाई विदेश में भी रहता है। पुलिस सूत्रों के अनुसार किर्ती अपार्टमेंट, तहसील परिसर में निकालस मंदिर इतवारी निवासी विनोद चिमनदास रामानी ( 44 ) ने अपने फ्लैट में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। सोमवार को परिसर में दुर्गंध आने पर पुलिस को सूचना दी गई तब विनोद रामानी द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या किए जाने की बात का खुलासा हुआ। सूचना मिलने पर तहसील पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। पुलिस ने पूरी तरह खराब हो चुकी विनोद रामानी की लाश का पंचनामा कर उसे पोस्टमार्टम के लिए शासकीय अस्पताल भेज दिया है। तहसील पुलिस ने आकस्मिक मृत्यु का मामला दर्ज किया है। विनोद रामानी अपने पीछे भरा पूरा परिवार छोड गए हैं। उनके कुछ दोस्तों की मानें तो उन्होंने व्यापार के लिए कुछ बडी रकम कर्ज ले रखा था। यह रकम चुका नहीं पा रहे थे। तीन दिन पहले उनका परिवार गांव गया था। व्यवसाय के लिए वे घर में अकेले थे। कर्ज का बोझ और ब्याज का बढता दबाव को लेकर विनोद काफी तनाव में रहता था। पुलिस का मानना है कि दो दिन पहले  ही उसने सीलिंग पंखे में दुपट्टा बांधकर फांसी लगाई होगी। अंदर से दरवाजे बंद थे। तहसील पुलिस ने दरवाजे को तोडकर अंदर प्रवेश किया। दो दिनों से  रामानी के घर का  दरवाजा नहीं खुलने  पर  पडोसियों को  शक हुआ।  सोमवार  को  उसके  घर से दुर्गंध आने पर पडोसियों ने पुलिस को जानकारी दी। उसके बाद आत्महत्या का यह मामला उजागर हो गया।

चर्चा यह भी हो रही है

सोमवार को उसके पोस्टमार्टम के लिए मेयो अस्पताल पहुंचे रिश्तेदारों, परिचितों और परिजनों के बीच चर्चा हो रही थी िक विनोद रामानी ने दाउद इब्राहिम के उपर कॉमेडी फिल्म बनाया था। उसे डी गैंग कंपनी से धमकी मिल रही थी। इस मामले की शिकायत दिल्ली में दर्ज भी कराई गई थी। यह बात उसके परिजनों को उसने पूरी तरह खुलकर बताया था या नहीं इस दिशा में छानबीन चालू है।   

मजदूरी लेकर की जा रही थी सट्टे की खायवाल, तीन आरोपी गिरफ्तार

वहीं सट्टा अड्डा संचालक से मजदूरी लेकर सट्टा-पट्टी की खायवाली करते हुए तीन लोगों को सोमवार को दिनदहाड़े जोन क्र.-5 के पुलिस दस्ते ने दबोच लिया। इस बीच सट्टा अड्डा संचालक फरार होने में सफल हो गया। आरोपियों के खिलाफ कलमना थाने में प्रकरण दर्ज किया गया है। दोपहर करीब डेढ़ बजे के दौरान जोन क्र.-5 का दस्ता कलमना क्षेत्र में गश्त पर था। इस बीच दस्ते को खबर मिली थी कि, डिप्टी सिग्नल स्थित नाग मंदिर के पीछे सट्टा-पट्टी का संचालन होता है। पुलिस ने जाल बिछाकर आरोपी वासु प्रकाश सेलोकर (19), जितेंद्र पारेटन सरपा (34) और प्रकाश परसराम सारवा (29), तीनों डिप्टी सिग्नल निवासी को लोगों से रुपए लेकर कल्याण और प्रभात नामक सट्टे की खायवाली करते हुए रंगेहाथ पकड़ लिया। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने पुलिस को बताया कि, इस अड्डे का संचालक पिंटू लखन सेलोकर (38), डिप्टी सिग्नल निवासी है। उसके लिए तीनों आरोपी 300 रुपए मजदूरी लेकर सट्टे की खायवाली कर रहे थे। अड्डा संचालक पिंटू फरार है। सभी आरोपियों के खिलाफ कलमना थाने में प्रकरण दर्ज कर नकद, सट्टा-पट्टी सामग्री, इस प्रकार कुल 25 हजार 800 रुपए का माल जब्त िकया। उपायुक्त निलोत्पल के मार्गदर्शन में उप-निरीक्षक माधव शिंदे, मनीष भोसले, दुर्गेश माकडे, मनीष बुरडे आदि ने कार्रवाई को अंजाम दिया।

कमेंट करें
fV6Jz