दैनिक भास्कर हिंदी: गडकरी ने कहा - विदर्भ में दुग्ध आधारित अर्थव्यवस्था ही हमारा लक्ष्य

September 1st, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। मदर डेयरी शहर में श्रीखंड-पनीर के उत्पादन के लिए बड़ा कारखाना शुरू करे। यह विचार केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी ने व्यक्त किए। विदर्भ व मराठवाड़ा के किसानों से 25 लाख लीटर दूध संकलन का उद्देश्य मदर डेयरी ने रखा है। वह पूर्ण होते ही विदर्भ के किसानों की स्थिति में सुधार आएगी। वे एनडीडीबी आैर मदर डेयरी के ऑरेंज मावा बर्फी के लॉन्चिंग कार्यक्रम में बोल रहे थे। इस अवसर पर केंद्रीय कृषि मंत्री गिरिराज सिंह, नेशनल डेयरी डेवलपमेन्ट बोर्ड के अध्यक्ष दिलीप रथ, मदर डेयरी के व्यवस्थापकीय संचालक संग्राम चौधरी, राज्य के सचिव लक्ष्मीनारायण मिश्रा, माफसू के कुलगुरु डॉ. आशीष पातूरकर, विदर्भ मराठवाड़ा डेयरी प्रकल्प के संचालक रवींद्र ठाकरे उपस्थित थे। 

किसान आत्महत्या की घटनाएं रुकेंगी 

गडकरी ने कहा कि विदर्भ में किसानों की आत्महत्या की घटनाओं को रोकने के लिए कृषि उत्पादन के साथ ही पूरक उत्पादन बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है। विदर्भ में अब तक दुग्ध आधारित अर्थव्यवस्था विकसित नहीं हुई थी। मदर डेयरी के माध्यम से इसके विकास पर जोर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि शहद का उत्पादन बढ़ाने के लिए भी जोर दिया जा रहा है। इसके लिए 100 करोड़ की निधि उपलब्ध कराई है। इसके अलावा मिट्टी के बर्तन, लोहार, वुडन क्राफ्ट, सोलर वस्त्र के 13 क्लस्टर को मंजूरी दी गई है। इसमें से  एक कपड़े का क्लस्टर विदर्भ में शुरू किया जाएगा। मदर डेयरी ने नागपुर की विशेष पहचान संतरा बर्फी को विशेष दर्जा दिया है। देश के 400 बड़े रेलवे स्टेशनों पर अब कुल्हड़ में चाय मिलेगी। इससे कुल्हड़ उत्पादन की मांग व प्रमाण बढ़ेगा। खादी ग्रामोद्योग व अन्य संस्था के माध्यम से यंत्र का वितरण किया जाएगा। इस उद्योग का जीडीपी में हिस्सा 29 प्रतिशत है। जल्द ही इसे 50 प्रतिशत पर ले जाने में भी सफलता मिलेगी। प्रस्तावना दिलीप रथ ने दी। आभार संग्राम चौधरी ने माना। 

"गोरस पाक' बिस्कुट का निर्माण करें

मदर डेयरी वर्धा जिले के पवनार स्थित विनोबा भावे के आश्रम में मिलनेवाले "गोरस पाक' बिस्कुट का निर्माण करे। गोरस पाक में गाय का घी और शहद का उपयोग किया जाता है। इसकी मांग विदेशों में भी है। 
गडकरी ने यह भी कहा

6 जिले डीजल मुक्त करेंगे 

विदर्भ में देशी गाय गर्भधारण केंद्र

विदर्भ के मीठे पानी के झिंगे की निर्यात की योजना

आईवीएफ तकनीक से पैदा करेंगे गाय : गिरिराज सिंह

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि दुनिया में भारत सबसे बड़ा दुग्ध उत्पादक, तीसरा सबसे बड़ा अंडा उत्पादक है। यहां से बड़ी मात्रा में मछली का भी निर्यात किया जाता है। आनेवाले समय में कम दूध देनेवाली गाय को आईवीएफ तकनीक के माध्यम से गर्भ धारण कराया जाएगा। इससे  किसानों को ज्यादा दूध देनेवाली गायें मिलेंगी और दूध का उत्पादन बढ़ेगा। हमारा लक्ष्य एग्रीकल्चर विद लाइव स्टॉक करने का है।

खबरें और भी हैं...