दैनिक भास्कर हिंदी: क्रिकेट सट्टे के शौक में बर्बाद हुआ तो लगा ली फांसी, सुसाइड नोट बरामद

September 3rd, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। क्रिकेट सट्टे के शौंक ने एक परिवार को बर्बाद कर दिया। परिवार के मुखिया ने फांसी लगा ली। जिससे उसकी मौत हो गई। वाकया हुड़केश्वर थानांतर्गत हुआ। बरामद सुसाइड के आधार पर मामला दर्ज किया गया है। बुधवार को शव परिजन के सुपुर्द कर दिया गया। सारबांधे ले-आउट निवासी संजय वामनराव इंगले 50 वर्ष ऑटो रिक्क्षा चालक था। वर्ष 2014 से संजय को क्रिकेट पर सट्टा लगाने का शौंक लगा। कमाई के आधे से ज्यादा रुपए वह उसी में उड़ा देता था। इस चक्कर में कुछ दिनों बाद उसने ऑटो चलाना ही बंद किया था। स्टैंड पर ऑटो खड़ा कर देता  और सट्टा खेलने चले जाता था। बाद में दोस्तों मित्रों और साहूकार से ब्याज पर रुपए लेकर भी सट्टा खेलने लगा था। पत्नी योगिता ने बताया कि पति संजय के सट्टा खेलने के बारे में उसे कोई जानकारी नहीं थी। वह काम पर भी कर्जे की वजह से नहीं बल्की खुद की मर्जी से जा रही है। संजय ने कभी उसे काम पर जाने के लिए नहीं बोला था। इस बीच संजय ने एक बैंक से भी कर्जा लिया था। बैंक, साहूकार और अन्य लेनदारों से त्रस्त होकर आखिरकार मंगलवार को संजय ने फांसी लगाई। जांच जारी है।

 

सावनेर में युवक की जहर खाने से मौत

उधर सावनेर में 44 वर्षीय विवाहित युवक की जहर खाने से मौत हो गई। घटना होली चौक, सावनेर में मंगलवार को दोपहर 12 बजे के करीब हुई। मृतक का नाम अतुल महादेव चरपे (34) सावनेर निवासी है। मृतक अमरावती की फर्टिलाइजर कंपनी में काम करता था। दो साल पूर्व सावनेर निवासी रामदास उमाटे महाराज की लड़की से उनका विवाह हुआ था। विवाह के एक साल बाद उन्हें बेटा पैदा हुआ था लेकिन, उसकी कुछ ही दिनों में मौत हो गई। बेटे की मौत होते ही अतुल की पत्नी अपने मायके चली गई, तब से वह ससुराल नहीं आई। पत्नी के ससुराल न आने से दोनों में विवाद होने की खबर है। अतुल ने एक माह पूर्व नौकरी छोड़ दी थी। वह हमेशा तनाव मंे रहता था। मंगलवार को दोपहर उसने कीटकनाटक जहर खाकर खुदकुशी कर ली। आत्महत्या का कारण अभी स्पष्ट नहीं हुआ है। सावनेर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। आगे की जांच जमादार बोरकर कर रहे हैं।

 

मुंबई में चोर समझ बस ड्राईवर की पिटाई से मौत

उधर मुंबई में पिटाई के बाद एक 32 वर्षीय बस ड्राइवर की मौत हो गई है। बुरी तरह जख्मी बस ड्राइवर ने इलाज के दौरान गुजरात में दम तोड़ा। पुलिस ने मामले थे छह आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। जिस शख्स की मौत हुई उसका नाम रंजीत पांडे है। पांडे 21 अगस्त को पालघर के बोइसर इलाके में बस के पास खड़ा था। पांडे को देखकर आरोपियों को शक हुआ कि वह गाड़ी की बैटरी चुराने की फिराक में है। इसके बाद उसे पकड़कर बुरी तरह पीटा गया। बुरी तरह जख्मी पांडे को पहले इलाज के लिए स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन तबीयत ज्यादा बिगड़ने के बाद उसे गुजरात के वलसाड में स्थित एक अस्पताल में भर्ती करा दिया गया। इलाज के दौरान रविवार को पांडे ने दम तोड़ दिया। मामले में बोइसर पुलिस ने मुख्य आरोपी अनवर गर्गेवाला उसके भाई मिंटू समेत छह आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 302, 149, 147 के तहत हत्या, अवैध रूप से जमा होने और उपद्रव के आरोप में एफआईआर दर्ज की है। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी रविवार को मॉबलिंचिंग को अमानवीय कृत्य करार देते हुए ऐसे अपराध करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की बात कही है। 
 

खबरें और भी हैं...