comScore

कांग्रेस से हजारे-शेलके, भाजपा ने फुके-डॉ रेड्‌डी को दिया टिकट- तीसरी सूची से भी तावडे, खडसे, बावनकुले व मेहता गायब

कांग्रेस से हजारे-शेलके, भाजपा ने फुके-डॉ रेड्‌डी को दिया टिकट- तीसरी सूची से भी तावडे, खडसे, बावनकुले व मेहता गायब

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कांग्रेस ने 20 उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी की है। इसमें नागपुर पूर्व से पुरुषोत्तम हजारे और नागपुर मध्य से ऋषिकेश (बन्टी) शेलके को मैदान में उतारा है। कांग्रेस महासचिव मुकुल वासनिक द्वारा जारी सूची के मुताबिक अहेरी से दीपक कदम, औरंगाबाद पश्चिम (सुरक्षित) से रमेश गायकवाड, नंदुरबार से मोहन पवन सिंह, शिरपुर से रणजीत भारत सिंह पारवा, परभनी से रवि राज अशोकराव देशमुख, सिलोड से प्रभाकर माणिकराव पतोदकर, नाशिक मध्य से शाहू सहदेवराव खैरे, मालाड पश्चिम से अस्लम आर शेख, घाटकोपर पश्चिम से मनीषा संपतराव सूर्यवंशी, कलीना से जॉर्ज अब्राहम, वांद्रे पश्चिम से आसिफ अहमद जकेरिया, वडाला से शिवकुमार लाड़, बायकुला से मधुकर बालकृष्ण चौहान, अलिबाग से श्रद्धा महेश ठाकुर, अक्कलकोट से सिद्दाराम सतलिंगप्पा म्हेत्रे, पंढरपुर से कलुंगे शिवाजीराव बाजीराव, कुडाल से हेमंत राघोबा कुडालकर और कोल्हापुर उत्तर से चंद्रकांत जाधव को प्रत्याशी बनाया गया है।

भाजपा ने साकोली से फुके और रामटेक से डॉ रेड्‌डी को दिया टिकट

उधर महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने गुरुवार को प्रत्याशियों की तीसरी सूची जारी कर दी है। पार्टी ने इस सूची में चार नामो का एलान किया है। इसमें रामटेक से डॉ मल्लिकार्जून रेड्‌डी को उम्मीदवारी दी है। वहीं पार्टी के विधान परिषद सदस्य परिणय फुके को साकोली से प्रत्याशी बनाया गया है। तीसरी सूची में शिरपुर (एसटी) काशीराम पावरा और मालाड पश्चिम से रमेश सिंह ठाकुर को टिकट मिला है। इस तरह से भाजपा की ओर से अब तक 143 सीटों पर प्रत्याशियों के नामों की घोषणा कर दी है। बता दें कि भाजपा ने शिवसेना के साथ सीट बंटवारे का अब तक कोई आधिकारिक ऐलान नही किया है।

भाजपा की तीसरी सूची से भी तावडे, खडसे, बावनकुले व मेहता गायब

भाजपा की तीसरी सूची में पार्टी के दिग्गज मंत्रियों और पूर्व मंत्रियों का नाम नहीं होने से उनके माथे पर बल पड़ गया है। भाजपा ने पार्टी के दिग्गज नेता व पूर्व मंत्री एकनाथ खडसे, प्रदेश के उच्च व तकनीकी शिक्षा मंत्री विनोद तावडे, ऊर्जा मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले, पूर्व मंत्री प्रकाश मेहता, विधानसभा में भाजपा के मुख्य सचेतक राज पुरोहित को अब तक टिकट नहीं दिया है। समझा जा रहा है कि भाजपा जलगांव की  मुक्ताईनगर सीट से खडसे की जगह उनकी बेटी रोहिणी को उम्मीदवारी दे सकती है। गुरुवार को खडसे ने मुक्ताईनगर के अपने आवास पर समर्थकों से मुलाकात की। खडसे के समर्थकों ने उनसे मुक्ताईनगर सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ने की मांग की है। टिकट नहीं मिलने के कारण खडसे के एक समर्थक ने मिट्टी का तेल छिड़कर आत्महत्या करने की चेतावनी दी। हालांकि खडसे ने फोन करके उसको समझाया। पत्रकारों से बातचीत में खडसे ने खुद ही टिकट नहीं मिलने के संकेत दिए। खडसे ने कहा कि पार्टी जो फैसला करेगी मैं उसका पालन करूंगा। मैंने 40 साल के राजनीतिक जीवन में पार्टी ने जो आदेश दिया हमेशा उसका पालन किया है। इसी बीच खडसे ने राष्ट्रवादी कांग्रेस के अध्यक्ष शरद पवार के उस दावे को खारिज कर दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि खडसे सहित भाजपा के कई नेता तीन महीनों से मेरे संपर्क में हैं। खडसे ने कहा कि मेरा तीन महीने क्या तीन साल से पवार से संपर्क नहीं हुआ है। महाराष्ट्र विधानसभा में कुल 288 सीटें हैं। इसमें से शिवसेना करीब 124 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। जबकि भाजपा के हिस्से में 164 सीटें आई है। भाजपा ने अब तक 143 सीटों पर उम्मीदवार घोषित किया है। भाजपा कोटे की केवल 21 सीटें बची हुई हैं। भाजपा अपने हिस्से वाली 21 सीटों में से चार सहयोगी दलों के उम्मीदवारों के लिए सीटें छोड़ेगी। भाजपा के चारों सहयोगी दलों को लगभग 14 सीटें मिल सकती हैं। गुरुवार को भाजपा की तीसरी सूची में चार उम्मीदवारों के नाम हैं। पार्टी ने शिरपुर से काशीराम पवारा, रामटेक से डा मल्लिकार्जुन रेड्डी, सकोली से परिणय फुके और मलाडा पश्चिम (मुंबई) से रमेश सिंह ठाकुर को उम्मीदवारी दी है। राज्य के शिक्षामंत्री विनोद तावडे की बोरिवली, उर्जामंत्री चंद्रशेखऱ बावनकुले की कामठी और पूर्व मंत्री प्रकाश मेहता की घाटकोपर पूर्व से अभी तक उम्मीदवारों के नाम घोषित नहीं किए गए हैं। सूत्रों के अनुसार पार्टी तावडे को विधानसभा चुनाव में उतारने के बजाय विधान परिषद में भेज सकती है। 
 

पृथक विदर्भ की मांग को लेकर जंरमंतर पर धरना प्रदर्शन

इसके अलावा महाराष्ट्र में विधानसभा की चुनावी तपिश के बीच गुरुवार को प्राऊटिस्ट ब्लॉक इंडिया ने पृथक विदर्भ की मांग को लेकर दिल्ली में जंतर मंतर पर धरना प्रदर्शन किया। आंदोलनकारियों ने पृथक विदर्भ को लेकर केन्द्र और राज्य की भाजपा सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए जमकर नारेबाजी की। प्राऊटिस्ट ब्लॉक इंडिया के विदर्भ संगठक मधुकर निस्ताने के नेतृत्व में किए गए धरना प्रदर्शन में प्राउटिस्ट के कार्यकर्ताओं सहित यवतमाल, चंद्रपुर, वर्धा जिले के किसानों ने हिस्सा लिया था। निस्ताने ने कहा कि महाराष्ट्र में कांग्रेस की सरकार के विपक्ष में रहते हुए देवेन्द्र फडणवीस विदर्भ के किसानों की आत्महत्या, स्वतंत्र विदर्भ की मांग को लेकर सत्ताधारियों पर लगातार हमलावर रहते थे, लेकिन सत्ता में आने के बाद राज्य सरकार ने पृथक विदर्भ की मांग को भूला दिया है। जबकि 2014 के चुनावी घोषणापत्र में भाजपा ने पृथक विदर्भ बनाने की बात कहीं थी। इसलिए धरना प्रदर्शन के माध्यम से प्रधानमंत्री को इस मुद्दे की याद दिलाने के लिए हम दिल्ली आए है। धरना प्रदर्शन में नरेन्द्र धनरे, अरुण कपिले, विवेक डेहनकर, मोरेश्वर वातिले, अनिल ढोणे, गोपाल नामपेल्लीवार, दिलीप पवार सहित कई किसान शामिल हुए।

कमेंट करें
TIkKr