दैनिक भास्कर हिंदी: विदर्भ में जोरदार बारिश, गड़चिरोली के 100 गांव प्रभावित, पेड़ से टकरा अटकी बस 25 जानें बचीं

August 20th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। विदर्भ के कुछ जिलों में सोमवार को हुई जोरदार बारिश से जनजीवन प्रभावित हो हुआ। गड़चिरोली की भामरागढ़ की पर्लकोटा नदी में बाढ़ आने से भामरागढ़ समेत 100 गांवों का संपर्क जिला मुख्यालय से टूट गया। नंदीगांव नाले पर शाम 5 बजे के दौरान हैद्राबाद से गड़चिरोली की ओर आ रही रापनि की बस सिरोंचा-अहेरी मार्ग स्थित नाले में गिर गई। पेड़ से बस लटक जाने से बस में सवार 25 यात्रियों की जान बच गई। यही नहीं अनेक घर टूट गई और बाढ़ में दो भैंसे बह गईं। भामरागढ़ की पर्लकोटा नदी में बाढ़ से हालात खराब हो गए। वहीं मुलचेरा की दीना नदी में आई बाढ़ से करीब 75 गांवों का संपर्क टूट गया। अहेरी तहसील मुख्यालय समीपस्थ गडअहेरी नाले पर बाढ़ से करीब 30 गांवों का संपर्क तहसील मुख्यालय से टूट गया। सिरोंचा तहसील के अनेक गांवों का संपर्क टूट चुका है। मुलचेरा तहसील के दामपुर नाले पर आई बाढ़ में दो भैंस बह गयी है।

देसाईगंज तहसील के कोकड़ी गांव में दीवार ढहने से 6 बकरियों की मौत हो गई और 6 बकरियां गंभीर रूप से घायल हो गयी है। देसाईगंज शहर पूरी तरह जलमग्न हो गया। अनेक घरों में पानी घुस जाने से परेशानी हुई वहीं आईटीआई चौक, चामोर्शी मार्ग पानी में डूब जाने से काफी देर तक यातायात ठप रहा ।  निरंतर बारिश के चलते अहेरी उपविभाग समेत जिले के विभिन्न तहसीलों में छोटे-मोटे नदी नालों पर बाढ़ की स्थिति निर्माण हो गयी है। जिसके कारण रापनि के अहेरी और गड़चिरोली डिपो द्वारा चलाई जा रही बससेवा अनिश्चितकाल के लिये बंद की गई है। सिरोंचा तहसील के कोटापल्ली-रेगुंठा मार्ग का छोटा पुलिया निरंतर बारिश के चलते टूट गया। इस कारण इस क्षेत्र का यातायात प्रभावित रहा।

उधर वर्धा में सोमवार की सुबह तथा दोपहर 3 बजे से रिमझिम बारिश हुई। हिंगणघाट तहसील में सर्वाधिक 644.93 मि.मी. बारिश हुई है। गोंदिया के अर्जुनी मोरगांव तहसील में हुई बारिश से नदी-नाले उफान पर आ गए। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी राजन चौबे ने बताया कि मौसम विभाग द्वारा अगले 48 घंटों के दौरान जिले में कुछ स्थानों पर भारी बारिश की चेतावनी दी गई है। जिसे देखते हुए नदी किनारे रहने वाले नागरिकों से सतर्कता बरतने का आह्वान किया गया है। इटियाडोह एवं संजय सरोवर का जल संग्रहण 50 फीसदी पार कर गया, जबकि पुजारीटोला एवं कालीसराड़ जैसे अपेक्षाकृत छोटे जलाशय 80 फीसदी से अधिक भर चुके हैं। सिरपुरबांध को छोड़कर जिले के सभी जलाशयों में 50 फीसदी से अधिक जल संग्रहण दर्ज किया गया है।

भंडारा में नागपंचमी के बाद से हो रही बारिश से जलाशयों के जलस्तर में वृद्धि हुई है। दिन भर हुई बारिश से वैनगंगा नदी का जलस्तर बनाए रखने गोसीखुर्द बांध के नौ दरवाजे आधे मीटर से खोलने पड़े। प्रतिदिन हो रही बारिश से जिले के जलाशयों समेत नदी, नाले, तालाब उफान पर हैं। सोमवार सुबह से जारी बारिश से जलाशय ओवरफ्लो हो गए। उधर पवनी तहसील के गोसीखुर्द बांध के नौ दरवाजे आधे मीटर से खोलने पड़े। मौसम विभाग अनुसार बारिश अभी और बरकरार रहेगी।