महाराष्ट्र : यदी ऐसा हुआ तो राज्य में और सख्त हो जाएंगी पाबंदियां

January 12th, 2022

डिजिटल डेस्क, मुंबई।  मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने जिला प्रशासन को टीकाकरण की गति बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में चिकित्सा ऑक्सीजन का इस्तेमाल धीरे-धीरे बढ़ रहा है। अब हर दिन कोरोना और गैर कोरोना मरीजों को मिलाकर 400 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत पड़ रही है। हर दिन 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का इस्तेमाल होने पर राज्य में और सख्त पाबंदियों को लागू किया जा सकता है। इसको ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन टीककरण बढ़ाने की तैयारी करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में बीते 10 और 11 जनवरी को कोरोना के मरीजों की संख्या कम हुई है। लेकिन नागरिक बेपरवाह नहीं होना चाहिए। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जनवरी के आखिरी सप्ताह और फरवरी महीने के पहले सप्ताह में अस्पताल में भर्ती होने वाली मरीजों की संख्या में काफी वृद्धि नजर आएगी। 

घर में टेस्ट करने वाले नागरिक दें जानकारी- टोपे 

प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने मेडिकल दुकानों से कोरोना की सेल्फ टेस्टिंग किट लाकर घर पर किए गए टेस्ट में संक्रमित पाए जाने वाले नागरिकों से अपने पास के स्वास्थ्य केंद्र को  जानकारी देने की अपील की है। टोपे ने कहा कि घर पर टेस्ट में संक्रमित पाए जाने पर मरीज रिपोर्ट नहीं कर रहे हैं। ऐसे नागरिकों को पास के स्वास्थ्य केंद्रों को संक्रमित होने के बारे में अवगत करना चाहिए। जिससे स्वास्थ्य विभाग के कॉल सेंटर के जरिए मरीजों पर निगरानी रखी जा सकेगी। टोपे ने कहा कि सेल्फ टेस्टिंग किट से टेस्ट में संक्रमित बिना लक्षण अथवा कम लक्षण वाले नागरिकों को उनकी इच्छा के अनुसार घर पर क्वारंटाइन में रहने की अनुमति दी जाएगी। टोपे ने कहा कि राज्य में हर दिन कोरोना की 2 लाख आरटीपीसीआर टेस्ट की जा रही है। इसके अलावा जिलों में  एंटीजन टेस्ट करने के निर्देश दिए गए हैं। टोपे ने कहा कि राज्य में टीकाकरण की गति को बढ़ाया जाना चाहिए। इसके लिए जिलाधिकारी और मनपा आयुक्त उचित कदम उठाना चाहिए। 

मरीजों की संख्या कम देखकर भ्रम में न रहे नागरिक

टोपे ने कहा कि पिछले दो दिनों में कोरोना के दैनिक मामलों में कमी को देखकर प्रदेशवासी भ्रम में न रहे। क्योंकि कोरोना के दैनिक मामलों की ग्राफ की रेखा समतल नहीं हो रहा है। राज्य में कोरोना के 46 हजार नए मरीज मिले हैं। राज्य की कोरोना संक्रमण दर 21.4 प्रतिशत और मुंबई की संक्रमण दर 27 प्रतिशत से अधिक है। राज्य में कोरोना के सक्रिय मरीज लगभग 2 लाख 25 हजार हैं। टोपे ने कहा कि कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ रही हैं। लेकिन केवल 14 प्रतिशत मरीजों को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता पड़ रही है। जिसमें से 2.8 प्रतिशत मरीज गंभीर हैं। टोपे ने कहा कि कोरोना के मरीजों की मृत्यु दर घटकर 0.3 प्रतिशत हो गई है। 

अभी स्कूल रहेंगे बंद 

टोपे ने कहा कि मंत्रिमंडल की बैठक में स्कूलों को लेकर काफी समय तक चर्चा हुई। लेकिन मराठवाड़ा और विदर्भ के ग्रामीण इलाकों में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। इसलिए अगले 15 से 20 दिनों तक स्कूल बंद रहेंगे। इसके बाद परिस्थिति के अनुसार फैसला लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...