comScore

नागपुर में 3.98 किमी लंबे पुल का लोकार्पण, गडकरी ने कहा-अब दुर्घटना मुक्त होगा महानगर

नागपुर में 3.98 किमी लंबे पुल का लोकार्पण, गडकरी ने कहा-अब दुर्घटना मुक्त होगा महानगर

डिजिटल डेस्क, नागपुर। महानगर में मेरे और पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस के पिछले कार्यकाल में 70 से 75 हजार करोड़ रुपए के कार्य किए गए। अब हमारा ध्यान शहर को दुर्घटना मुक्त बनाना है। रिजर्व बैंक चौक पर दुर्घटना हो, इसके लिए वहां के ट्रैफिक सिग्नल सिस्टम को डिजायन कर लगाएंगे। यह बात केन्द्रीय मंत्री नितीन गडकरी ने कही। वह शुक्रवार को नागपुर-ओबेदुल्लागंज राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 47 पर लिबर्टी सिनेमा से प्रादेशिक मानसिक अस्पताल तथा छावनी चौक से काटोल महामार्ग क्रमांक 353-जे पर 3.98 किलाेमीटर लंबे उड़ानपुल के लोकार्पण अवसर पर बोल रहे थे। मानकापुर इनडोर स्टेडियम के सामने उड़ानपुल के एप्रोच पर कार्यक्रम आयोजित किया गया। केन्द्रीय मंत्री के हाथों पहले डिजिटल लोकापर्ण और फिर फीता काटकर उद्घाटन किया गया। पुल को शनिवार से आम नागरिकों के लिए खोल दिया जाएगा। मंच पर विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेन्द्र फडणवीस, महापौर संदीप जोशी, सांसद डॉ. विकास महात्मे, पूर्व पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले, विधायक जोेगेन्द्र कवाडे, गिरीश व्यास, कृष्णा खोपड़े, विकास कुंभारे, मोहन मते, सुलेखा कुंभारे आदि उपस्थित थे।

50 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा

श्री गडकरी ने कहा कि मिहान में हमने कंपनियों को लाने का प्रयास किया और 27 हजार लोगों को रोजगार मिला है। अगले 2 साल में 50 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा। इस दौरान गडकरी ने अपने कार्यकाल में किए गए कार्यों की सूची पढ़कर बताते हुए कहा कि यह सूची इसलिए पढ़ रहा हूं क्योंकि लोगों को कहना है कि मैं घोषणाएं बहुत करता हूं। खासदार महोत्सव की तर्ज पर 6 विधानसभा में कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। शहर के 350 मैदान ऐसे बनाएंगे, जिससे शहर के 1 लाख बच्चे हर रोज खेल सकें। शहर की मेट्रो को देखने के िलए फ्रांस और जर्मनी के लोग आकर तारीफ कर रहे हैं।

शहर का चेहरा बदला है

पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने कहा कि इस उड़ान पुल की अनेक साल से मांग थी। जब मैं पश्चिम से विधायक था, तब भी यही मांग थी और इसके बनने से सदर में यातायात बाधित होने से राहत मिलेगी। 5 साल में प्रकल्पों से शहर का चेहरा बदला है और नागपुर अंतरराष्ट्रीय शहर बना है। एक सरकार के बाद 2-3 सरकार निकल जाती है और प्रकल्प जमीन पर नहीं आ पाता है, जबकि केन्द्रीय मंत्री के नेतृत्व में तय समय में और कई बार, तो उसके पहले ही प्रकल्प का काम पूरा हो गया।

सत्तापक्ष के नेता नहीं पहुंचे

सदर उड़ानपुल के उद्घाटन कार्यक्रम में सिर्फ भारतीय जनता पार्टी के नेता, पदाधिकारी और कार्यकर्ता ही दिखाई दिए। कार्यक्रम में राज्य सरकार के सत्तापक्ष के नेता नहीं पहुंचे। कार्यक्रम में पालकमंत्री डॉ. नितीन राऊत, गृह मंत्री अनिल देशमुख, पशु संवर्धन मंत्री सुनील केदार, सांसद कृपाल तुमाने, विधान परिषद सदस्य प्रकाश गजभिये, पश्चिम नागपुर के विधायक विकास ठाकरे आमंत्रित थे।

विमानतल का निजीकरण अटका

केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस के विमानतल के िनजीकरण को मंजूरी दे दी थी, लेकिन तकनीकी कारणों से एक बार फिर टेंडर निकालने की आशंका बन रही है। इससे विमानतल के निजीकरण का मामला अटकता दिखाई दे रहा है।

कमेंट करें
amNdX