comScore

भारत के हाथ नहीं आया मुन्ना झिंगाडा, थाईलैंड ने पाक को सौंपा

भारत के हाथ नहीं आया मुन्ना झिंगाडा, थाईलैंड ने पाक को सौंपा

डिजिटल डेस्क, मुंबई। बैंकाक में माफिया सरगना छोटा राजन पर हमला करने वाला दाऊद इब्राहिम गिरोह के मुन्ना झिंगाडा को लेकर चल रही कानूनी लड़ाई में भारतीय जांच एजेंसियों को तगड़ा झटका लगा है। थाईलैंड की अदालत ने झिंगाडा को पाकिस्तानी नागरिक करार दिया है। झिंगाडा से दाऊद के बारे में कई अहम जानकारियां मिल सकतीं हैं इसीलिए उसे भारतीय साबित कर उसके प्रत्यार्पण की कोशिश की जा रही थी। झिंगाडा के माता-पिता मुंबई के जोगेश्वरी इलाके में रहते हैं। अपना पक्ष मजबूत करने के लिए मुंबई पुलिस ने झिंगाडा के माता-पिता का डीएनए सैंपल भी थाई अधिकारियों को सौंपा था। लेकिन मामला खटाई में पड़ गया क्योंकि झिंगाडा ने अपना डीएनए सैंपल देने से इनकार कर दिया। थाईलैंड के कानून के मुताबिक वह ऐसा कर सकता था। इसके अलावा झिंगाडा के खिलाफ मुंबई में दर्ज आपराधिक रिकॉर्ड, स्माइल यूसुफ कॉलेज का उसका लीविंग सर्टिफिकेट जैसे कई दस्तावेज भी सौंपे थे।

दाऊद का करीबी है मुंबई का रहने वाला झिंगाडा

पिछले साल थाईलैंड की निचली अदालत ने सुनवाई के बाद झिंगाडा को भारतीय नागरिक करार देते हुए उसे भारत को सौंपने का आदेश दिया था। लेकिन झिंगाडा ने पाकिस्तान में बैठे अपने आकाओं के इशारे पर फैसले को ऊपरी अदालत में चुनौती दी थी। पाकिस्तान को डर था कि झिंगाडा के भारत को सौंपे जाने से उसकी पोल खुल सकती है इसीलिए उसने भी अपनी तरफ से उसी बचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। पाकिस्तान की ओर से झिंगाडा का फर्जी शादी का सर्टिफिकेट पेश किया गया और उसका नाम मोहम्मद सलीम बताया गया। झिंगाडा को साल 2000 में छोटा राजन पर हमले के मामले में थाईलैंड पुलिस ने गिरफ्तार किया था। उसके पास उस दौरान मोहम्मद सलीम नाम से बना पाकिस्तानी पासपोर्ट भी बरामद किया गया था। 
 

कमेंट करें
RuL9U