दैनिक भास्कर हिंदी:  मनरेगा के मजदूर करेंगे राज्य के किले की सफाई, पर्यटन मंत्री जयकुमार रावल की पहल

July 14th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। राज्य में स्थित किले की साफ - सफाई को लेकर अक्सर पर्यटकों को शिकायत रहती है। इसलिए इन किलों की सफाई कर गंदगी से उबारने के लिए मनरेगा के मजबूरों की सेवा ली जाएगी। ये मजदूर किले व आसपास के परिसर की साफ-सफाई भी करेंगे। किले के आसपास की हरियाली बढ़ाने के लिए पेड़ भी लगाए जाएंगे। उक्त जानकारी राज्य के पर्यटन मंत्री जयकुमार रावल ने दी। 

स्थानीय लोगों को मिलेगा रोजगार
'दैनिक भास्कर' को रावल ने बताया कि मनरेगा के मजदूरों से किले की साफ-सफाई कराई जाएगी। इससे आसपास के इलाकों की सुंदरता बढ़ेगी जिससे पर्यटक भी आकर्षित होंगे और पर्यटकों की संख्या भी बढ़ सकेगी। इसका एक और फायदा यह होगा कि स्थानीय लोगों को और अधिक रोजगार मिल सकेगा।

महाराष्ट्र में  450 से ज्यादा किले हैं। कई सारे किले के परिसर में बड़े पैमाने पर घास उग आए हैं और वे काफी बड़े हो गए हैं। जिससे ये इन किलों  की खूबसूरती दब गई है। ऐसे किले को फिर से उनकी पुरानी रौनक लौटने के लिए उसकी साफ - सफाई और देखरेख जरूरी है। यहां घासफूस की कटाई-छंटाई के साथ ही नए पौधे लगाने की आवश्यकता है। इसके लिए सरकार विशेष मुहिम शुरू करना चाहती है।

100 दिनों में सफाई का लक्ष्य
श्री रावल ने कहा कि हमारा उद्देश्य यह है कि किले के साथ-साथ उनके आसपास के इलाके की सुंदरता बढ़ाई जाए। उन्होंने बताया कि इसे लेकर पिछले दिनों नागपुर में हुई बैठक में तय किया गया कि विशेष मुहिम के अंतर्गत केंद्र सरकार की मनरेगा, राज्य की रोजगार गारंटी योजना और राज्य पुरातत्व विभाग मिलकर किले की स्वच्छता का काम करेंगे। इस मुहिम को प्रभावी बनाने के लिए पर्यटन मंत्री रावल ने संबंधित विभाग के अधिकारियों को आदेश दिया है।

शुरूआती दौर में 100 दिनों में किले की साफ-सफाई का लक्ष्य रखा गया है। साथ ही किले के सौंदर्यीकरण के लिए उनकी स्वच्छता, मरम्मत, किला परिसर में वृक्षारोपण, तालाबों की स्वच्छता, पेड़ों की कटाई आदि काम किए जाएंगे।