दैनिक भास्कर हिंदी: जोरदार बारिश और ओले फसल को नुकसान, नागपुर की कलमना मार्केट में भीगा अनाज

January 25th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। उपराजधानी में गरज बरस के साथ छींटे गिरे। जिससे फिजां में ठंडक घुल गई। बीती रात और दिन में कुछ देर हुई बारिश से कलमना मार्किट में अनाज गीला हो गया। जिससे व्यापारियों को परेशानी हुई। गुरुवार रात साढ़े 12 बजे जोरदार बारिश हुई थी। साथ ही ओले गिरे थे। खड़ी फसलें बर्बाद होने से किसानों का नुकसान हुआ। जिले की मौदा तहसील में सर्वाधिक नुकसान होने का कृषि  विभाग का प्राथमिक अनुमान है। रबी की बुआई औसतन कम हुई है।ऊपर से बेमौसम बारिश ने कहर बरपाकर फसलों को बर्बाद कर दिया। मिर्च, चना, गेहूं, लाखोड़ी की फसलों को बारिश ने नुकसान पहुंचाया। मौदा तहसील में ओले के साथ बारिश होने से जिले में फसल का सर्वाधिक नुकसान होने का कृषि विभाग का प्राथमिक अनुमान है। नागपुर (ग्रामीण) और हिंगना तहसील में भी बारिश के कारण बड़े पैमाने पर फसल का नुकसान हुआ है। कमोबेश जिले की सभी तहसीलों में फसलों का नुकसान होने की जानकारी मिली है। कृषि विभाग सर्वेक्षण कर फसल का नुकसान के आंकड़े जुटाने में लगा हुआ है। 26 जनवरी की शाम तक नुकसान के प्राथमिक आंकड़े प्राप्त होने का अनुमान जिला कृषि अधीक्षक मिलिंद शेंडे ने व्यक्त किया।

उधर वर्धा, चंद्रपुर, अमरावती में भी बारिश हुई। शुक्रवार रात भर विदर्भ के कई जिले में हुई बारिश से गेहूं, तुअर, चना, संतरा व धान की फसलें चौपट होने की खबर है।  इससे किसानों में चिंता की लहर है। इस बारिश से अनेक स्थानों पर विद्युत आपूर्ति कई घंटे ठप रही। वहीं कुछ स्थानों की सड़कों पर कीचड़ होने से दुपहिया अनेक दुपहिया फिसलने से कुछ लोग घायल हो गए। चंद्रपुर में शुक्रवार शाम को भी बारिश हुई। 

अमरावती जिले के नांदगांव खंडेश्वर और धामणगांव तहसील में गुरुवार की देर रात बेमौस बारिश के साथ ओलावृष्टि ने कहर बरपाया। इन दो तहसीलों में करीब 250 हेक्टेयर क्षेत्र में लगाई गयी गेहूं, तुअर, चना, संतरा की फसल चौपट होने के समाचार है। नांदगांव खंडेश्वर तहसील के दाभाडा में नींबू के आकार वाले ओले गिरने के समाचार हैं।

वर्धा जिले में गुरुवार की रात से लेकर शुक्रवार की सुबह तक हुई वर्षा से हजारों हेक्टेयर क्षेत्र की गेहूं व चना की फसल को नुकसान पहुंचा।  जिले के आष्टी शहीद तहसील व कारंजा घाडगे तहसील के गांवो मे संतरा फसल प्रभावित हुई है। इसके अलावा सेलू तहसील मे केला फसल का नुकसान हुआ है। जिले के वर्धा तहसील, हिंगणघाट तहसील, देवली तहसील, आर्वी तहसील, समुद्रपूर तहसील, कारंजा घाडगे तहसील, आष्टी शहीद तहसील, सेलू तहसील में शुक्रवार की रात ३ बजे के बाद आसमान में तेज गडगडाहट के साथ बारिश हुई। 

वर्धा जिले की आष्टी शहीद के आष्टी-तलेगांव महामार्ग पर कीचड़ हो जाने से शुक्रवार सुबह से लेकर शाम तक दर्जनों दुपहिया फिसल गईं। इससे कई लोगों के घायल होने के समाचार हैं। 

यवतमाल जिले की १० तहसीलों में हुई बारिश से गेहूं व तुअर की फसल को भारी नुकसान पहुंचा। कलंब  तहसील में छोटे बेर आकार के ओले गिरे। 

भंडारा जिले की तुमसर तहसील के गोबरवाही, चिखला, मोहाड़ी तहसील के वरठी के पास स्थित नेरी, भोसा, टाकली ग्राम में ओलावृष्टि हुई है। यहां किसानों की मिर्च की फसल को सर्वाधिक नुकसान पहुंचा है। 

गोंदिया जिले में बारिश से चना व लखोरी को नुकसान पहुंचा है। तिरोड़ा तहसील के चुरड़ी में एक मकान पर बजली गिर जाने से मकान क्षतिग्रस्त हो गया। 

अमरावती की नांदगांव खंडेश्वर और धामणगांव तहसील में गुरुवार की देर रात बेमौस बारिश के साथ ओलावृष्टि ने कहर बरपाया। इन दो तहसीलों में करीब 250 हेक्टेयर क्षेत्र में लगायी गयी गेहूं, तुअर, चना, संतरा की फसल चौपट होने के समाचार है। इसी तरह धामणगांव क्षेत्र के जुना धामणगांव, वाठोडा, दाभाडा, विरुल रोंघे, जलगांव आर्वी, तरोडा, कावली वसाड, वाघोली, माहुली दस्तगीर, जलगांव इन ग्रामीण क्षेत्रों में गेहूं की फसल पर सर्वाधिक असर ओलावृष्टि से हुआ है। वहीं नांदगांव खंडेश्वर तहसील के दाभाडा में नींबू के आकार वाले ओले गिरने के समाचार है।

कोंढाली तथा ग्रामीण अंचल में बिजली के साथ तेज बारिश

कोंढाली तथा ग्रामीण अंचल में गुरुवार रात 11.15 बजे से तेज हवा के साथ बारिश शुरू हुई। रात दो बजे तक तेज बारिश चलती रही। बारिश शुक्रवार को शाम तक चलती रही। कुछ लोगों का कहना है कि इस बारिश से गेंहू, चना और संतरे की फसल को फायदा होगा। वर्धा जिले की कारंजा तहसील के काजली, राहटी, जोगा क्षेत्र में गेंहू की फसल पर तूफान के कारण गेंहू की फसल का नुकसान होने की जानकारी मिली है। तेज बारिश से मासोद शिवार में दो मवेशियों की करंट लगने से मौत हो गई। काटोल के एसडीओ श्रीकांत उंबरकर, काटोल के तहसीलदार अजय चरडे तथा कोंढाली के नायब तहसीलदार निलेश कदम ने संबंधितों को जांच के आदेश दिए हैं। 

धामना में बारिश से फसलों का नुकसान

तेज बारिश के साथ ओले भी गिरे। जिससे किसान के गेहूं चना, टमाटर, तथा अन्य फसल का काफी नुकसान हुआ है। इस बेमौसम बारिश ने किसानों के सामने एक और संकट खड़ा कर दिया। क्षेत्र के व्याहाड, पेठ, सातनवरी, सिरपुर, बाजारगांव, सिवा, सावंगा शामिल है।

कलमेश्वर तहसील में रात भर बरसे मेघ

कलमेश्वर तहसील में शुक्रवार सुबह 12 बजे तक रूक-रूक कर बारिश हुई। 24 घंटे वाली बारिश ने पूरे शहर का मौसम सर्द बना दिया है। हुडको कॉलोनी में रातभर विद्युत आपूर्ति बंद रहने से नागरिकों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।
 
चंद्रपुर में कई स्थानों पर पेड़ गिरे, कुछ बिजली की तारो पर जा गिरे, जिससे बिजली गुल हो गई। हाईस्कूल मैदान में लगे मीना बाजार का झूला गिरा गया। हादसे में कोई हताहत नहीं हुई, 50 लाख का नुकसान बताया जा रहा है।