दैनिक भास्कर हिंदी: 15 लाख के म्यूजिकल फाउंटेन को तोड़ बना रहे योगा शेड

February 7th, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर। मनपा अपने उद्यानों के रख-रखाव व देखभाल के लिए निधि के अभाव का रोना रो रही है। वहीं, आदर्श प्रगति कॉलोनी के उद्यान में लाखों रुपए खर्च कर लगाए गए म्यूजिकल फाउंटेन को तोड़कर उसकी जगह योगा शेड बनाया जा रहा है। इस मामले में पूर्व नगरसेवक की पहचान मिटाने के लिए जनता के पैसों का दुरुपयोग किए जाने का मनपा स्थायी समिति सभापति विजय (पिंटू) झलके पर आरोप लग रहा है। आरोप लगाने वाला व्यक्ति दूसरे दल का नहीं, उन्हीं के पार्टी के पूर्व नगरसेवक भरतभूषण गायधने हैं। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से इसकी शिकायत भी की जा चुकी है।

2012 में लगाया था फाउंटेन

मनपा प्रभाग क्रमांक 28 में आदर्श प्रगति कॉलोनी उद्यान है। वर्ष 2012 में 15 लाख की लागत से मनपा ने यहां म्यूजिकल फाउंटेन बनाया था। भाजपा तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष नितीन गडकरी ने उद्घाटन किया था। शेगांव के आनंदसागर स्थित म्यूजिकल फाउंटेन की तर्ज पर इसका निर्माण किया गया था। तत्कालीन नगरसेवक भारतभूषण गायधने ने इसकी पहल की थी।  

उसी जगह पर नजर

उद्यान में वही जगह योगा शेड के लिए तय की गई है, जहां म्यूजिकल फाउंटेन था, जबकि देखा जाए तो उद्यान में योगा शेड के लिए और भी खुली जगह है। पूर्व नगरसेवक गायधने का कहना है कि जिद पर लाखों के फाउंटेन को तोड़कर योगा शेड के लिए निधि खर्च की जा रही है। कानून सभी के लिए बराबर है। इस विद्रूपीकरण के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।   

बूझो तो जानें, जैसी स्थिति

मनपा ने तिजोरी का बोझ कम करने के लिए उद्यानों को निजी हाथों में सौंपकर प्रवेश शुल्क वसूलने का निर्णय लिया था। आक्राेश बढ़ने पर बैकफुट पर आना पड़ा। स्वयंसेवी संस्था या व्यावसायिक संगठनों से उद्यानों का रख-रखाव व देखभाल में सहयोग लेकर नागरिकों को नि:शुल्क प्रवेश देने की संभावना तलाशने का प्रशासन को सुझाव दिया गया है। वहीं लाखों रुपए खर्च कर उपलब्ध की गई सुविधा काे तहस-नहस कर उसी जगह अन्य निर्माणकार्य पर मनपा की निधि खर्च की जा रही है, यह एक अनसुलझी पहली बनी हुई है।

योगा शेड नागरिकों की मांग

विजय (पिंटू) झलके, सभापति, मनपा स्थायी समिति ने कहा कि म्यूजिकल फाउंटेन 10 वर्ष पहले बनाया था। चंद दिन चलने के बाद बंद हो गया। टांके में पानी जमा रहने से उद्यान में आने वाले नागरिकों को परेशानी हो रही थी। उसे देख फाउंटेन को तोड़कर योगा शेड बनाने का निर्णय लिया। उद्यान में योगा शेड बने, यह स्थानीय नागरिकों की मांग है।