दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर के व्यापारी को पुणे के ठगों ने 69.53 लाख का लगाया चूना, जानें कैसे ?

December 20th, 2017

डिजिटल डेस्क, नागपुर ।  रियल इस्टेट व सड़क निर्माण कार्य क्षेत्र से जुड़े व्यवसायी को पुणे के तीन ठगों ने विदेश में रियल इस्टेट संबंधित प्रदर्शनी लगाने का झांसा देकर 69.53 लाख रुपए का चूना लगा दिया। तीनों आरोपियों ने रकम आपस में बांट ली। रियल इस्टेट कारोबारी जयंत खडतकर के साथ तीन वर्ष पहले यह धोखाधड़ी की गई। आरोपी उन्हें पैसे वापस करने का झांसा देते रहे, जब जयंत को लगा कि वह अब पैसे नहीं देंगे तब उन्होंने आरोपी विलास शंकर बिरसदार, उसकी पत्नी माधुरी विलास बिरसदार आैर अमोल श्रीकांत खरे पुणे निवासी के खिलाफ सक्करदरा थाने में धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया। पुलिस ने एक माह पहले इस मामले की जांच शुरू की। 18 दिसंबर को पुलिस ने इस मामले में आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया। 
विदेश में रियल इस्टेट प्रदर्शनी लगाने के नाम पर ठगी: पुलिस सूत्रों के अनुसार रेशमबाग निवासी जयंत खडतकर (55) रियल इस्टेट व सड़क-भवन निर्माण कार्य के कारोबारी है। वह जून 2014 में पुणे में रियल इस्टेट के कारोबार के सिलसिले में गए थे। इस दौरान वहां पर उनकी मुलाकात विलास बिरसदार उनकी पत्नी माधुरी बिरसदार आैर अमोल खरे से हुई। इन तीनों ने जयंत को बताया कि वह भी रियल इस्टेट के कारोबार से जुड़े हैं। तीनों आरोपियों ने जयंत को अपने कार्यालय भी ले गए थे, जिससे जयंत को उन पर भरोसा हो गया। आरोपियों को जब यह लगा कि जयंत उन पर भरोसा करने लगे हैं तब तीनों आरोपियों ने जयंत से कहा कि वह सिडनी (आस्ट्रेलिया) में रियल इस्टेट संबंधी प्रदर्शनी करना चाहते हैं। तीनों आरोपियों ने जयंत को इस प्रदर्शनी में साझेदार बनाने व इस प्रदर्शनी से अच्छी कमाई होने का लालच दिया। 
रकम का बंदरबाट: जयंत ने तीनों आरोपियों के झांसे में आकर जून 2014 में उन्हें 69.53 लाख रुपए दे डाले। आरोपियों ने यह रकम आपस में बांट लिया। जब भी जयंत आरोपियों से आस्ट्रेलिया में प्रदर्शनी लगाने के बारे में बातचीत करते थे तब वह बात को टाल देते थे। जयंत को जब यकीन हो गया कि आरोपियों ने उनके साथ धोखाधड़ी की है तब आरोपियों से उन्होंने अपने पैसे वापस मांगे। तीनों आरोपी उन्हें दिलासा देते रहे कि वह रकम वापस कर देंगे। इसमें करीब 3 वर्ष का समय बीत गया, रकम बड़ी होने के कारण जयंत आरोपियों को ज्यादा कुछ नहीं बोल रहे थे। वह चाहते थे कि रकम थोड़ी-थोड़ी कर वापस मिल जाए, लेकिन आरोपी टालमटोल करते रहे। तब एक माह पहले उन्होंने सक्करदरा थाने में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने मामले की छानबीन कर आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है।