दैनिक भास्कर हिंदी: दोस्त ने सिम वापस नहीं की तो कर दी की हत्या, वैनगंगा नदी में लाश मिलने पर हुआ खुलासा

June 6th, 2018

डिजिटल डेस्क, सिवनी। मामूली सी सिम के लिए किसी युवक की हत्या भी हो सकती है यह सुनने में अटपटा जरूर लगता है किन्तु है एकदम सच। यहां के दो किशोरों ने अपने ही साथी की सिर्फ इसलिए सुनियोजित ढंग से हत्या कर दी क्योंकि वह उनकी सिम नहीं लौटा रहा था। पुलिस ने मामले का खुलासा कर दिया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार धनौरा पुलिस ने सुनवारा के पास वैनगंगा नदी में मिली लाश के मामले में अंधे हत्याकांड का खुलासा कर दिया। हत्या में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। बुधवार को कोर्ट में पेश कर उन्हें जेल भेज दिया गया है। ज्ञात हो कि नदी में 31 मई को माथनपुर निवासी बलराम पिता श्रीराम कुशवाहा की लाश मिली थी। चोट के निशान पर पुलिस ने अज्ञात आरोपियों पर मामला दर्ज कर छानबीन शुरु की थी।

ये हैं घटनाक्रम
पुलिस के अनुसार सुनवारा निवासी राकेश उर्फ गबरू गुहाकाछी ने बलराम को कुछ माह पहले एक सिम दी थी। उसी सिम को बार बार राकेश मांग रहा था, लेकिन बलराम इंकार करता रहा। यह व्यवहार राकेश को ठीक नहीं लगा और वह उससे बैर रखने लगा। राकेश ने  30 मई को अपने साथी जंतु उर्फ जितेंद्र पिता मानसिंह यादव की मदद से बलराम को बुलाया और दोनों ने मिलकर मारपीट की। बलराम का सिर नदी के किनारे पत्थर में पटक दिया जहां उसकी मौत हो गई।

गांजा पीने के बाद विवाद
आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि बलराम के साथ तीनों ने एक खेत में बनी झोपड़ी में गांजा पिया। इसी दौरान राकेश ने बलराम से सिम मांगी। इसी बात पर फिर से विवाद शुरु हो गया । मारपीट की स्थिति पर पर बलराम वहां से भागा लेकिन दोनों ने उसे पकड़ लिया और घसीटकर नदी के किनारे ले गए। दोनों ने उसका सिर जोर से पत्थर में पटक दिया और उसे गहरे पानी में फेंककर फरार हो गए।