दैनिक भास्कर हिंदी: अय्यर का सोनिया, राहुल पर हमला- कहा, कांग्रेस अध्यक्ष या तो मां बनेगी या बेटा

October 9th, 2017

डिजिटल डेस्क, कसौली। 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान नरेंद्र मोदी को चायवाला कहकर बीजेपी को मुद्दा थमाने वाले कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने एक बार फिर पार्टी की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। इस बार मणिशंकर अय्यर ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर जोरदार हमला किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष या तो मां बनेगी या बेटा। बकौल अय्यर, 'जब कोई प्रत्याशी है ही नहीं तो अध्यक्ष बनने के लिए चुनाव कैसे होंगे।' उन्होंने कहा, 'पार्टी में बेशक मुझे अनदेखा किया जा रहा है लेकिन मैं जन्मजात कांग्रेसी हूं और रहूंगा। तमिलनाडु से कांग्रेस का सदस्य बना हूं और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी का चुनाव लडूंगा। हार-जीत की परवाह नहीं, लेकिन मुकाबला अवश्य करेंगे'।

'मोदी पर नहीं की थी ऐसी टिप्पणी'

गौरतलब है कि मणिशंकर ने हिमाचल प्रदेश स्थित कसौली में आयोजित कार्यक्रम के दौरान यह टिप्पणी की। साथ ही उन्होंने अपनी उस टिप्पणी की भी सफाई दी जिसमें उन्होंने पीएम मोदी को चाय वाला कह कर सनसनी फैला दी थी। अय्यर ने कहा, 'मैंने कभी यह नहीं कहा कि चाय वाला प्रधानमंत्री नहीं बन सकता बल्कि मीडिया ने उनके बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया है।' उन्होंने कहा था कि मोदी का परिवार कैंटीन चलाता था, लिहाजा वह भी कभी-कभार वहां बैठते थे। एक दिन पहले ही जीएसटी में केंद्र सरकार की ओर से कुछ राहत देने के मामले में अय्यर ने कहा कि जीडीपी के लिए जीएसटी पर रोलबैक थोड़ा बहुत जरूरी है।

भारतवासियों को खुश नहीं कर पाए मोदी


अय्यर ने कहा अगर बुनियादी तौर पर जीएसटी को प्रणब मुखर्जी के वित्त मंत्री रहते स्वीकारा होता तो स्थिति और होती। लेकिन हमारा सुझाव व नीति नहीं अपनाई गई। अलग-अलग वस्तुओं के मूल्य पहले ही निर्धारित करने चाहिए थे। नतीजा सबके सामने है। अलग-अलग वस्तुओं के मूल्य पहले ही निर्धारित करने चाहिए थे, लेकिन प्रधानमंत्री यह नहीं जानते थे कि अलग वस्तुओं का रेट अलग होना चाहिए। शराब व सिगरेट पर 40% जीएसटी लगाकर बता देते कि नशा एक पाप है तो समस्त भारतवासी खुश हो जाते कि मोदी ने अच्छा काम किया है।

बीजेपी ने कहा झूठ


अय्यर ने कहा कि 2014 में जब चुनाव हुए थे तो भाजपा का कहना था कि मनमोहन सिंह खामोश रहते हैं। अब तीन साल से वित्त मंत्री अरुण जेटली व प्रधानमंत्री कह रहे हैं कि कांग्रेस के कार्यकाल में आठ बार जीडीपी नीचे आई है जबकि आंकड़ों के मुताबिक जीडीपी चार बार गिरी है। उनका झूठ यहीं पकड़ा गया है।

मयावती ले हाथ मिलाना होगा कांग्रेस के लिए फायदेमंद


कांग्रेस को सलाह देने के लिहाज से अय्यर ने कहा कि अगर 2019 के लोकसभा चुनाव में मोदी को पटखनी देनी है तो कांग्रेस को मायावती से हाथ मिला लेना चाहिए। भाजपा कहती है कि हम हिंदू राष्ट्र बनाना चाहते हैं जबकि कांग्रेस कहती है कि हम सभी धर्मों को मिलाकर राष्ट्र बनाना चाहते हैं।