दैनिक भास्कर हिंदी: प्रश्न-पत्र में एक के बाद खामियां, यूनिवर्सिटी के पेपर सेटिंग पर सवाल

May 20th, 2019

डिजिटल डेस्क,नागपुर। यूनिवर्सिटी की ग्रीष्मकालीन परीक्षाएं जारी हैं। इन परीक्षाओं में लगातार विश्वविद्यालय की खामियां प्रश्न-पत्र में गलतियों के रूप में उजागर हो रही हैं। प्रश्न-पत्र इतनी लापरवाही से सेट किए जा रहे हैं कि या तो उनमें प्रश्न पाठ्यक्रम के बाहर के होते हैं, या फिर कुछ प्रश्न घूमा-फिरा कर पूछे जा रहे हैं। हाल ही में संपन्न हुई एम.ए.राज्यशास्त्र विभाग की चौथे सेमिस्टर की परीक्षाओं में कुछ ऐसा ही देखने को मिला। पेपर में दो-चार सवाल बार-बार पूछे गए। प्रश्नों का दोहराव इस कदर था कि 80 अंकों के इस प्रश्न पत्र में 30 से 50 अंक दोहराव पर आधारित प्रश्नों पर थे। विद्यार्थियों को बार-बार उन्हीं प्रश्नों के उत्तर घुमा-फिरा कर लिखने थे।

मामला गंभीर  
यह पहली बार नहीं है कि यूनिवर्सिटी द्वारा ली जा रही परीक्षा में प्रश्न-पत्र में दोहराव की शिकायतें आ रही हैं। कुछ दिनों पूर्व लिए गए पांच वर्षीय एलएलबी पाठ्यक्रम के चौथे सेमिस्टर के इकोनॉमिक्स विषय के पेपर में गलतियां होने की शिकायत विद्यार्थियों ने की है। विद्यार्थियों का आरोप है कि इसमें प्रश्न क्र. 2-ब और प्रश्न क्र.-7 रिपीट हुआ। दोनों प्रश्नों में "देश में कृषि का महत्व' पूछा गया था। इसके पूर्व भी प्रश्न-पत्र में प्रश्नों के दोहराव की ढेरों शिकायतें यूनिवर्सिटी के पास आई हैं। ऐसे में स्थिति स्पष्ट है कि यूनिवर्सिटी  पेपर सेटिंग में सावधानी नहीं बरत रहा है। प्रभारी परीक्षा नियंत्रक डॉ.अनिल हिरेखण ने मामले की जांच करके जरूरी कार्रवाई करने की बात कही है।

15 मई को यूनिवर्सिटी ने 'प्रेशर ग्रुप एंड सोशल मूवमेंट्स' का पेपर लिया
इसके प्रश्न क्रमांक 1(ए) में सामाजिक आंदोलनों का अर्थ और महत्व के बारे में लिखना था। प्रश्न क्रमांक 2 (बी) में फिर सामाजिक आंदोलनों का अर्थ और विचारधारा पूछी गई। प्रश्न क्रमांक 5 (सी) में फिर से सामाजिक आंदोलनों और आधुनीकिकरण पर लघु लेख लिखने को कहा गया। इसी तरह प्रश्न क्रमांक 1 (बी) में दबाव समूह (प्रेशर ग्रुप) क्या है? उनकी कार्यशैली कैसी है? यह पूछा गया। प्रश्न क्रमांक 5 (डी) में फिर एक बार दबाव समूहों की आधुनिक कार्यशैली पर लघू लेख लिखने के लिए कहा गया। 

यूनिवर्सिटी ने 17 मई को 'अंतरराष्ट्रीय संस्थाएं' विषय का पेपर लिया
प्रश्न क्रमांक 2 (ए) में यूनाइटेड नेशन्स पर निबंध लिखने को कहा गया। इसी के (बी) प्रश्न में यूनाइटेड नेशन्स की शांति स्थापना में भूमिका पूछी गई। प्रश्न क्रमांक 3 (ए) में वर्ल्ड बैंक के प्रारूप और काम पर सवाल पूछा गया। तो वहीं प्रश्न क्रमांक 5 (सी) में फिर से वर्ल्ड बैंक के महत्व पर लघु लेख लिखने को कहा गया।