शिवसेना की अंतर्कलह : रामदास कदम ने कहा-  मंत्री अनिल परब हैं शिवसेना के गद्दार

December 19th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। महाविकास आघाड़ी सरकार बनने के बाद से दरकिनार किए गए शिवसेना नेता तथा पूर्व मंत्री रामदास कदम का आखिरकार गुस्सा फूट पड़ा है। इसके साथ ही शिवसेना का अंतर्कलह सामने आया है। कदम ने शिवसेना नेता तथा प्रदेश के परिवहन मंत्री अनिल परब पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने परब को शिवसेना का गद्दार करार दिया। परब के खिलाफ अशब्दों का प्रयोग किया। कदम ने कहा कि मुझे समझ नहीं आता कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे शिवसेना पक्ष प्रमुख हैं याफिर परब पार्टी को चला रहे हैं। शनिवार को पत्रकारों से बातचीत में कदम ने कहा कि परब राकांपा के साथ हाथ मिलाकर मेरा और मेरे बेटे रत्नागिरी के दोपाली सीट से शिवसेना विधायक योगेश कदम को राजनीतिक रूप से खत्म करना चाहते हैं। कदम ने दावा किया कि वह शिवसेना नहीं छोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि मैं अंतिम क्षण तक भगवा का साथ नहीं छोडूंगा। यदि शिवसेना से मुझे निकाल दिया जाता है तो भी मैं शिवसेना के रूप में जीऊंगा। कदम ने भाजपा में शामिल होने की अकटलों पर विराम लगाया। उन्होंने कहा कि मैं मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद अपने अगले फैसले के बारे में एक महीने बाद घोषणा करूंगा। जबकि मेरे बेटे विधायक योगेश अपना फैसला लेने के लिए स्वतंत्र हैं। कदम ने कहा कि परब बेलगाम हो चुके हैं। मेरी उद्धव से अपील है कि वह इस मामले का संज्ञान लें। कदम ने कहा कि परब शिवसेना से गद्दारी कर रहे हैं। परब ने दोपाली नगर पंचायत के चुनाव के लिए राकांपा के साथ गठबंधन किया है। परब ने दूसरे दलों से आए नेताओं को नगर पंचायत चुनाव में टिकट दिया है। जबकि मेरे समर्थकों को किनारे कर दिया। इसलिए चुनाव में 8 सीटों पर बाकी उम्मीदवार मैदान में उतर गए हैं। कदम ने कहा कि मेरे बेटे योगेश को साल 2019 के विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं मिले। इसके लिए परब राकांपा के पूर्व विधायक संजय कदम को तीन बार मातोश्री में उद्धव के पास लेकर गए थे। लेकिन उद्धव ने मेरे बेटे योगेश को टिकट दिया। इससे नाराज परब जब रत्नागिरी के पालक मंत्री बने तब से मेरे बेटे योगेश के खिलाफ साजिश करते आ रहे हैं। कदम ने कहा कि परब राकांपा के संजय कदम और मनसे के नेता वैभव खेडकर के सहारे योगेश को राजनीतिक रूप से कमजोर करने में लगे हुए हैं। कदम ने कहा कि मेरी परब को चुनौती है कि वह बांद्रा विधानसभा सीट अथवा मुंबई मनपा की किसी सीट पर नगरसेवक का चुनाव जीतकर दिखाएं। कदम ने कहा कि राकांपा सांसद सुनील तटकरे सरकारी निधि का लालच दिखाकर शिवसेना के नेताओं को तोड़ रहे हैं।  

मैंने सोमैया को परब के खिलाफ सबूत नहीं दिए

कदम पर आरोप लगा था कि वह अपने सहयोगी परब के खिलाफ एक आरटीआई कार्यकर्ता के जरिए भाजपा के पूर्व सांसद किरीट सोमैया को दस्तावेज उपलब्ध कराए हैं। इस आरोप पर कदम ने कहा कि मैं शिवसेना प्रमुख दिवंगत बालासाहब ठाकरे की शपथ लेकर कह रहा हूं कि मैं कभी सोमैया से नहीं मिला हूं। मैंने सोमैया को परब के खिलाफ कभी सबूत नहीं दिए हैं। कदम ने दावा किया कि मेरे खिलाफ परब ने ही कथित ऑडियो वायरल की थी। कदम ने कहा कि परब के रत्नागिरी के दापोली के अवैध रिसॉर्ट के बारे में बोलने का मतलब यह नहीं है कि मैंने शिवसेना पर टिप्पणी की है। 

मैंने विधान परिषद का टिकट नहीं मांगा था

कदम ने कहा कि मैंने साल 2019 के विधानसभा चुनाव से पहले ही आगामी समय में कोई चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा की थी। इसके बावजूद मेरे खिलाफ साजिश के तहत खबरें चलवाई गई हैं कि मेरा विधान परिषद के चुनाव में पत्ता कट हो गया। जबकि मैंने विधान परिषद चुनाव में टिकट नहीं मांगा था। 

देसाई को मंत्री बनाए जाने का मुझे दुख

कदम ने कहा कि महाविकास आघाड़ी की सरकार बनने से पहले मैंने उद्धव से कहा था कि मुझे, दिवाकर रावते और सुभाष देसाई को मंत्री मत बनाइए। क्योंकि हमारी आयु 70 साल के लगभग हो चुकी है। इसके बदले किसी नए चेहरों को मौका दीजिए। इस पर उद्धव ने सहमति जताई थी। लेकिन मंत्रियों की सूची आई तो सबसे पहला नाम सुभाष देसाई का था। उद्धव ने मुझसे कहा था कि मैं देसाई को मंत्री नहीं बनाऊंगा फिर भी उन्होंने देसाई को मंत्री बनाया। इसका मुझे दुख है। 

सामंत से सीखने पड़ रही पार्टी निष्ठा 

कदम ने शिवसेना नेता तथा प्रदेश के उच्च व तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत के खिलाफ तीखी टिप्पणी की है। कदम ने कहा कि मैं 52 साल शिवसैनिक हूं। लेकिन अब हमें राकांपा से शिवसेना में आकर मंत्री बने सामंत से पार्टी निष्ठा सीखनी पड़ रही है। 

कदम के आरोपों पर नहीं दूंगा जवाब- परब  

कदम के आरोप पर मंत्री परब ने कहा कि मैं उनके आरोपों के बारे में कुछ नहीं बोलना चाहता हूं। मैं उनके आरोपों का जवाब नहीं दूंगा। मैं एक शिवसैनिक हूं। कदम ने मेरे खिलाफ जो भी टिप्पणी की है। पार्टी उसका संज्ञान लेगी। जबकि मंत्री सामंत ने कहा कि कदम शिवसेना के वरिष्ठ नेता हैं। उनकी टिप्पणी पर मुझे बोलना उचित नहीं होगा।