comScore

मंत्री सावंत बोले - केकड़ों की वजह से टूटा बांध, अब जमकर हो रहे ट्रोल

मंत्री सावंत बोले - केकड़ों की वजह से टूटा बांध, अब जमकर हो रहे ट्रोल

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राज्य के जलसंसाधन मंत्री तानाजी सावंत के केकड़ा वाले बयान को लेकर सोशल मीडिया पर उन्हें खूब ट्रोल किया जा रहा है। व्हाट्सएप, ट्विटर और फेसबुक पर कई मीम वायरल हो रहे हैं। उनके इस अजीबोगरीब बयान को लेकर विपक्ष ने भी मंत्री को निशाना बनाया है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रवक्त नवाब मलिक ने कहा कि जल संरक्षण मंत्री सावंत भ्रष्ट बड़ी मछलियों को बचाने के लिए केकडे पर सिर आरोप मढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि तिवरे बांध टूटने के मामले की न्यायायिक जांच होनी चाहिए। इस मामले में दोषी विधायक के खिलाफ कार्रवाई की जरूरत है। मलिक ने कहा कि शिवसेना के मंत्री सावंत अपने दल के विधायक को बचाने के लिए बांध टूटने के लिए केकडों को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मंत्री का यह बयान शर्मनाक है। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत ने ट्विट कर मंत्री के बयान का मजाक उड़ाते हुए कहा कि तिवरे बांध टूटने से कई लोगों की जान चली गई और मंत्री को मजाक सुझ रहा है। 

केकड़ा लेकर पुलिस स्टेशन पहुंचे राकांपा कार्यकर्ता 

मंत्री के बयान के बाद राष्ट्रवादी युवक कांग्रेस के पदाधिकारी कोल्हापुर के शाहुपुरी पुलिस स्टेशन में केकड लेकर पहुंचे और बांध तोड़ने के आरोप में उसके खिलाफ 302 के तहत मामला दर्ज करने की मांग की। 

मंत्री ने दिया था यह बयान

प्रदेश के जलसंरक्षण मंत्री तानाजी सावंत ने रत्नागिरी के चिपलुन तहसील के तिवरे बांध टूटने का अजब कारण बताया है। गुरुवार को सोलापुर में सावंत ने कहा कि बांध केकडों के कारण टूटा है। उन्होंने कहा कि बांध टूटने के मामले की जांच के आदेश मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने दिए हैं। जांच रिपोर्ट में घटना की वास्तविकता का पता चल सकेगा। लेकिन मेरे दौर के समय गांव वाले और अधिकारियों ने बताया कि बांध केकडों के कारण टूटा है। केकड़ों के प्रकोप के कारण बांध में रिसाव हुआ है। उन्होंने कहा कि बांध में साल 2004 से जल संचय हो रहा है। लगातार 15 सालों तक बांध में जलसंग्रह होता रहा है। इसलिए बांध के निर्माण कार्य की गुणवत्ता पर सवाल खड़े नहीं किए जा सकते।
 

कमेंट करें
EIU8q