दैनिक भास्कर हिंदी: कारसेवकों पर गोली चलवाने के बयान पर घिरे मुलायम सिंह

November 29th, 2017

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। अपने 79वें जन्मदिन के मौके पर समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव द्वारा दिया गया बयान उनके लिए मुसिबत बन गया है। इस बयान के आधार पर उनके खिलाफ फैजाबाद की एक कोर्ट में केस दायर किया गया है। बता दें कि अपने जन्मदिन के मौके पर मुलायम सिंह ने यूपी चुनाव में मिली कम सीटों पर अखिलेश पर तंज कसते हुए कहा था कि इतनी कम सीटें तो अयोध्या में गोलियां चलवाने के बाद भी नहीं आई थीं।

मुलायम सिंह यादव के इस बयान के सामने आने के बाद राम जन्मभूमि आंदोलन के दौरान हुए गोली कांड में मारे गए रमेश पांडे की पत्नी गायत्री देवी ने फैजाबाद की एक कोर्ट में केस दायर किया है। 2 नवंबर 1990 को कारसेवकों पर गोली चलाने के बयान के आधार पर गायत्री देवी ने यह केस दायर किया है।

गायत्री देवी के वकील विशाल चंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि मुलायम सिंह के ताजे बयान के आधार पर फैज़ाबाद के एडिशनल चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट (फर्स्ट) के समक्ष हत्या का केस दाखिल किया गया है। उन्होंने बताया, 'अयोध्या में राम जन्मभूमि आंदोलन के समय पुलिस की गोलियों से कईं कारसेवक मारे गए थे। उन कारसेवकों में गायत्री देवी के पति रमेश पांडे भी पुलिस की गोलियों से मारे गए थे। मुलायम के बयान से इस बात की पुष्टि होती है कि उन्होंने कारसेवकों पर गोली चलवाने के आदेश दिए थे।'

बता दें कि मुलायम सिंह के इस भाषण पर विश्व हिंदू परिषद (VHP) ने भी उन पर हत्या का मुकदमा दर्ज कराने की मांग की थी। VHP ने योगी सरकार से मुलायम सिंह यादव को तत्काल गिरफ्तार करने की मांग की थी। VHP के मीडिया प्रभारी शरद शर्मा ने कहा था, 'मुलायम सिंह 27 साल बाद खुद स्वीकार किया है कि उन्होंने यूपी सीएम रहते कारसेवकों पर गोली चलाने के आदेश पुलिसकर्मियों को दिए थे। योगी सरकार को उन्हें गिरफ्तार करके उन पर हत्या का मुकदमा चलाना चाहिए।'