comScore

वेणा नदी के सूखने से गहराई वाड़ी में जल समस्या, उपाय योजनाओं पर किया जा रहा अमल

वेणा नदी के सूखने से गहराई वाड़ी में जल समस्या, उपाय योजनाओं पर किया जा रहा अमल

डिजिटल डेस्क, नागपुर। वेणा नदी का जल स्तर घटने से वाड़ी क्षेत्र में जलसंकट के हालात बिगड़ने की बात खुद जिलाधीश अश्विन मुदगल ने स्वीकारी है। उन्होंने कहा कि जिले की वाड़ी व वानाडोंगरी नगर परिषद में जलसंकट है और इसे दूर करने के लिए कदम उठाए जा रहे है। वेणा नदी का जल स्तर कम होने से वाड़ी में जलापूर्ति समस्या निर्माण हुई है। इससे निपटने के लिए अंबाझरी का पानी देने की योजना है। इसके लिए जरूरी कदम उठाने के साथ ही नियोजन भी किया जा रहा है। इसी तरह वानाडोंगरी में भी पानी की समस्या है और इसे दूर करने के लिए तेजी से कदम उठाए जा रहे हैं। वाड़ी व वानाडोंगरी में टैंकर से जलापूर्ति की जा रही है। कुएं अधिग्रहण के साथ ही नए कुएं बनाने, दुरुस्ती व मरम्मत के काम जारी है। बोरवेल को सुधारा जा रहा है। 

तेजी से बढ़ रही वानाडोंगरी की जनसंख्या
उन्होंने कहा कि, वानाडोंगरी की जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है और जनसंख्या को ध्यान में रखकर जलापूर्ति योजना बनाई जाएगी। पेंच बांध में 50 एमएलक्यू पानी शेष है। काटोल, कलमेश्वर व नरखेड़ में सूखा जैसी स्थिति है। समस्या से निपटने के लिए कृति प्रारूप बनाया गया है। 9 उपाय योजना पर काम हो रहा है। 35 टैंकरों से जलापूर्ति की जा रही है। 7 करोड़ 80 लाख की निधि जिला परिषद को दी गई है। 168 जगह दुरुस्ती व मरम्मत के काम चल रहे हैं। ग्राउंड वाटर लेवल की समीक्षा की जा रही है। जिले में 112 ऐसे कुएं हैं, जिसका मुआयना करने के बाद जल स्तर का पता लगाया जा सकता है। काटोल, कलमेश्वर व नरखेड़ में 0.5 से 0.8 तक जल स्तर कम हुआ है। अन्य जगह 0.5 से कम जलस्तर कम हुआ है। कुएं अधिग्रहण किए जा रहे हैं। टैंकर से जलापूर्ति जारी है। जलापूर्ति में लगे टैंकरों पर जीपीएस रहेगा और इसी हिसाब से उनका भुगतान करने को कहा गया है। 
 

कमेंट करें
xc4jk