दैनिक भास्कर हिंदी: देशमुख के खिलाफ ईडी के सामने पहुंचा नागपुर का वकील, कहा - मेरे पास पुख्ता सबूत 

June 28th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। पूर्व गृहमंत्री और वरिष्ठ राकांपा नेता अनिल देशमुख से जुड़े मनी लांडरिंग मामले में सोमवार को प्रवर्तन निदेशालय ने नागपुर के वकील तरुण परमार का बयान दर्ज किया। परमार ने पिछले सप्ताह ईडी से देशमुख के साथ कुछ अन्य राजनेताओं की शिकायत करते हुए दावा किया था कि उनके पास इन लोगों के खिलाफ पुख्ता सबूत हैं। परमार ने जांच एजेंसी को अपनी शिकायत में कहा था कि उनके पास इस बात की जानकारी है कि ये लोग किस तरह मनी लांडरिंग करते थे और उनके पास इसके समर्थन में दस्तावेजी सबूत भी है। 

परमार सोमवार को सुबह 11 बजे दक्षिण मुंबई स्थित ईडी के कार्यालय पहुंचे। ऑफिस के भीतर दाखिल होते समय उनके हाथ में कुछ दस्तावेज भी थे। इससे पहले ईडी ने मुंबई के बारों से हर महीने 100 करोड़ रुपए की वसूली के मामले में सीबीआई की एफआईआर के आधार पर देशमुख और दूसरे आरोपियों के खिलाफ मनी लांडरिंग का मामला दर्ज कर छानबीन शुरू की गई। देशमुख के लिए कथित तौर पर वसूली करने वाले बर्खास्त पुलिस अधिकारी सचिन वाझे और 10 बार मालिकों के बयान के आधार पर ईडी को इस बात के सबूत मिले कि वसूले गए 4 करोड़ 18 लाख रूपए चार फर्जी कंपनियों के जरिए नागपुर के एक ट्रस्ट को भेजे गए।

ईडी ने शुक्रवार को मामले में देशमुख के नागपुर, मुंबई स्थित घरों के अलावा उनके निजी सचिव संजीव पलांडे और निजी सहयोगी कुंदन शिंदे के घरों पर भी छापेमारी कर दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया। शनिवार को देशमुख को पूछताछ के लिए बुलाया गया था लेकिन वकील के जरिए उन्होंने पेशी के लिए और समय मांगा है। 

 

खबरें और भी हैं...