दैनिक भास्कर हिंदी: नक्सलियों ने ग्रामीण पर बरसाई गोलियां, एक की मौत

May 5th, 2018

डिजिटल डेस्क, धानोरा/गड़चिरोली। बंदूकधारी नक्सलियों ने शनिवार की देर रात 12 बजे के दौरान तहसील के होरेकसा गांव निवासी पांडूरंग गांडोजी पदा (46) नामक आदिवासी ग्रामीण की गोलियों से दागकर निर्ममता से हत्या कर दी। इस समय नक्सलियों ने आरोप लगाया कि, पांडुरंग पुलिस मुखबिर था। ज्ञात हो कि, एक साथ अपने 40 नक्सली सार्थियों की मृत्यु के बाद नक्सली संगठन पूरी तरह बौखला गया है। आदिवासी ग्रामीणों की हत्या कर नक्सलियों ने पलटवार करना शुरू कर दिया है। 

नींद से जगाकर ले गए जंगल 
पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, 40 से अधिक संख्या में आए बंदूकधारी नक्सलियों ने चातगांव पुलिस मदद केंद्र के तहत आने वाले होरेकसा गांव में प्रवेश किया। रात करीब 12 बजे के दौरान पांडुरंग के घर पहुंचकर उसे नींद से जगाया। इस समय पांडुरंग के घर में उसकी पत्नी और बेटी उपस्थित थी। जैसे ही नक्सलियों ने पांडुरंग को खींंचकर बाहर निकाला उसकी पत्नी और बेटी ने चिल्लाना शुरू कर दिया। आवाज सुनाई देते ही होरेकसा के ग्रामीण भी पांडुरंग के घर पहुंच गए। नक्सलियों ने ग्रामवासियों को धमकाकर पांडुरंग को जंगल में ले गए। वहां पर नक्सलियों ने पहले पांडुरंग को तीक्ष्ण हथियार से वार कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। बाद में बंदूक की गोलियां दागकर उसकी बड़ी ही निर्ममता से हत्या कर दी।

हत्या कर पर्चे फेंक गए
घटना को अंजाम देने के बाद नक्सली पर्चे फेंककर फरार हो गए। इन पर्चों में नक्सलियों ने बताया कि, 8 मई 2017  को मुठभेड़ में मारी गयी खूंखार नक्सली चातगांव एरिया कमेटी सचिव रंजिता उर्फ रामको रूषि उसेंडी की मृत्यु के लिए पांडुरंग जिम्मेदार था। पांडुरंग ने ही नक्सलियों के ठिकाने की जानकारी पुलिस को दी। इसी कारण वश उसकी हत्या किए जाने का पर्चों में लिखा गया है। घटना की जानकारी मिलते ही चातगांव पुलिस मदद केंद्र की टीम ने घटनास्थल पर पहुंचकर पंचनामा किया व पांडुरंग के शव को पोस्टमार्टम के लिए धानोरा के ग्रामीण अस्पताल में रवाना किया है। फिलहाल होरेकसा गांव के नागरिक नक्सलियों की दहशत में है।