दैनिक भास्कर हिंदी: एनसीपी निकालेगी नागपुर से रथयात्रा, शरद पवार के जन्मदिन पर होगी शुरुआत

October 31st, 2017

डिजिटल डेस्क, नागपुर। एनसीपी एक बार फिर सक्रिय होती दिखाई दे रही है। राज्य में अब ओबीसी आरक्षण को लेकर एनसीपी जनजागृति कार्यक्रम चलाने की तैयारी कर रही है। रथयात्रा के माध्यम से 3 माह तक राज्य में जनजागरण किया जाएगा। रथयात्रा की शुरुआत नागपुर से होगी। 12 दिसंबर को एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार के जन्मदिन के अवसर पर रथयात्रा निकलेगी। ओबीसी आयोग ने राज्य ओबीसी सूची में शामिल 304 जातियों में से 103 जातियों को क्रीमी लेयर सूची से हटाने की सिफारिश की है। हालांकि आयोग की सिफारिश को सरकार ने मंजूर नहीं किया है। लेकिन इस मामले को लेकर विरोध होने लगा है।

103 जातियों को नहीं मिलेगा लाभ

कई ओबीसी संगठनों ने कहा है कि ओबीसी आयोग की सिफारिश मानी जाए, तो 103 जातियों को ओबीसी कल्याण की योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाएगा। इससे राज्य में जातिगत विवाद होगा। ओबीसी आयोग की सिफारिश को नहीं मानने के लिए सीएम के नाम निवेदन भेजे जा रहे हैं। एनसीपी ओबीसी सेल के प्रदेश अध्यक्ष ईश्वर बालबुधे के अनुसार राज्य में ओबीसी के मामले में सरकार की नीति के विरोध में आंदोलन खड़ा करने की तैयारी चल रही है। शरद पवार ने सीएम रहते हुए मंडल आयोग की सिफारिशों को राज्य में लागू कराकर ओबीसी समाज को न्याय दिलाने का काम किया था। लिहाजा उनके जन्मदिन के मौके पर ओबीसी न्याय केलिए जनजागरण अभियान की शुरुआत होगी। चांद्रा से बांदा अर्थात चंद्रपुर से बांद्रा तक रथयात्रा के माध्यम से जनजागरण किया जाएगा।

3 माह तक सड़कों पर प्रदर्शन

बालबुधे के अनुसार ओबीसी मामले में सरकार की भूमिका गुमराहपूर्ण है। स्पर्धा परीक्षाओं में महिलाओं केलिए 30 प्रतिशत आरक्षण है, लेकिन क्रीमीलेयर के बहाने ओबीसी महिलाओं का आरक्षण का लाभ लेने से वंचित कर दिया जाता है। राज्य में ओबीसी महामंडल का कोई लाभ ही नहीं मिल रहा है। ओबीसी मंत्रालय के गठन की घोषणा पर भी अमल नहीं हो पाया है। ओबीसी महामंडल के लिए 2385 करोड़ रुपए मंजूर किए गए, लेकिन उन रुपयों का उपयोग ही नहीं किया गया। लिहाजा ओबीसी मामलों को लेकर एनसीपी कार्यकर्ता 3 माह तक सड़कों पर प्रदर्शन करेंगे। जिला स्तर पर जिलाधिकारी को निवेदन सौंपे जाएंगे।