बदला दौर : अब मंत्रालय में चेहरे से लगेगी हाजिरी, नई तकनीक का होगा इस्तेमाल

January 12th, 2022

डिजिटल डेस्क, मुंबई।  मंत्रालय में अधिकारियों और कर्मचारियों की अब 'चेहरा पहचान प्रणाली' से हाजिरी लगेगी। प्रदेश के सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री दत्तात्रय भरणे ने मंत्रालय में चेहरा पहचान हाजिरी प्रणाली का पायलट प्रोजेक्ट के रूप में इस्तेमाल करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने मंत्रालय में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में कुछ मशीनों के उपयोग के लिए सामान्य प्रशासन विभाग को सकारात्मक कार्यवाही करने के आदेश दिए हैं। बुधवार को मंत्रालय में भरणे की मौजूदगी में फिंगरप्रिंट आधारित बायोमेट्रिक हाजिरी के बजाय आधार प्रमाणित चेहरा पहचान हाजिरी प्रणाली के उपयोग के संबंध में बैठक हुई। भरणे ने कहा कि कोरोना और ओमिक्रॉन के खतरे के चलते मंत्रालय में अधिकारियों और कर्मचारियों की उपस्थिति के लिए बायोमेट्रिक मशीन के इस्तेमाल पर अस्थायी रोक लगाई गई है। कोरोना संकट के दौरान बार-बार बायोमेट्रिक मशीन के उपयोग पर रोक लगानी पड़ती है। इसके मद्देनजर नई तकनीक वाली आधार प्रमाणित चेहरा पहचान हाजिरी प्रणाली का पायलट प्रोजेक्ट के रूप में उपयोग के लिए सकारात्मक कार्यवाही करें। भरणे ने कहा कि चेहरे की पहचान से हाजिरी लगाने पर अधिकारियों और कर्मचारियों के समय की बचत होगी। इसके पहले बीते 5 जनवरी को सरकार के सामान्य प्रशासन विभाग ने बायोमेट्रिक मशीन के इस्तेमाल पर रोक लगाई है। इसके तहत सभी मंत्रालय में सरकारी कार्यालयों में उपस्थिति लिए बायोमेट्रिक मशीन के इस्तेमाल पर 31 जनवरी तक रोक है। अधिकारियों और कर्मचारियों की कार्यालय के रजिस्टर पर हाजिरी दर्ज कराई जा रही है। 

 

खबरें और भी हैं...