comScore

गोंदिया-भंडारा के धान उत्पादक पहुंचे वाराणसी के धान संशोधन संस्था, वैश्विक बाजार की ली जानकारी

गोंदिया-भंडारा के धान उत्पादक पहुंचे वाराणसी के धान संशोधन संस्था, वैश्विक बाजार की ली जानकारी

डिजिटल डेस्क, भंडारा। महाराष्ट्र  में भंडारा जिला धान उत्पादन के लिए प्रसिध्द है। भंडारा-गोंदिया जिले के धान उत्पादक किसानों के प्रतिनिधिमंडल ने  वाराणसी स्थित अंतरराष्ट्रीय धान संशोधन संस्था के दक्षिण एशिआई क्षेत्र के मुख्य केंद्र को भेंट देकर फसल संदर्भ में विश्व स्तर होने वाले मामलों को समझा।  इरी केंद्र के संचालक अरविंद कुमार तथा संस्था की संशोधक टीम द्वारा प्रतिनिधिमंडल को मार्गदर्शन किया गया। इस अभ्यास दौरे में प्रतिनिधिमंडल ने इरी संस्था की विश्व स्तर की प्रयोगशाला, उपग्रहों के जानकारी अनुसार संशोधन लैब, धान फसल से संबंधित अन्य उत्पादों की जानकारी हासिल की। भंडारा - गोंदिया के धान उत्पादक किसानों को उत्पादन प्रक्रिया में आने वाली तकलीफें, धान पर विश्व स्तर पर होने वाले संशोधन, धान आधारित अन्य उद्योग, इन विषयों पर मार्गदर्शन पाने के उद्देश्य से इस अभ्यास दौरे का आयोजन किया गया था। यह जानकारी सांसद सुनील मेंढे दी।

इरी जैसी विश्व स्तर की संस्था के विशेषज्ञों द्वारा किए मार्गदर्शन से भंडारा, गोंदिया जिले की धान फसल को मार्केट उपलब्ध कराने के लिए आगामी समय में इरी जैसी संस्था का मार्गदर्शन लेने का नियोजन करने की जानकारी सांसद मेंढे ने दी। इरी के संचालक अरविंद कुमार ने कहा कि 1960 से इरी संस्था विश्व स्तर पर धान फसल के लिए काम कर रही है। संस्था को हाल ही में भारत सरकार ने राजनीतिक संस्था की मंजूरी दी है। भंडारा, गोंदिया जिले जैसे क्षेत्र के धान उत्पादक किसानों के विकास के लिए अधिक अवसर उपलब्ध है। सांसद मेेंढे के नेतृत्व में आयोजित अभ्यास दौरे के प्रतिनिधि मंडल में राजेश गायधनी, खुमेंद्र मेंढे, अमृत मदनकर, भंडारा कृषि उत्पादक किसान संघ के संजय एकापुरे, साकोली कृषि केंद्र के प्रमोद पर्वते, धान संशोधक शामकुंवर शामिल थे। 

साकोली में हुआ तहसील एकत्रीकरण कार्यक्रम 

कोई भी देश एकसंघ होने से महाशक्ति हो सकता है। देश को महासत्ता होने के लिए राष्ट्रभक्ति प्रत्येक व्यक्ति के शरीर में होनी चाहिए और राष्ट्रभक्ति के संस्कार देने का कार्य संघ स्वतंत्रता से ही इमानदारी से कर रहा है। यह उद्गार भारतीय विचार संघ नागपुर के सुनील किटकरु ने व्यक्त किए। मकरसंक्रांति पर्व, विवेकानंद जयंती तथा माँ जिजाऊ जयंती के उपलक्ष्य में साकोली में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के तहसील एकत्रीकरण कार्यक्रम में वे बोल रहे थे। इस समय आशीष गुप्ता, जिला कार्यवाह अतुल दिवाकर, तहसील संघ संचालक दुलिचंद कोसलकर आदि प्रमुखता से उपस्थित थे। कार्यक्रम में सुनील किटकरु ने आगे कहा कि, प्राचीन काल से विश्व में भारत देश हिंदूराष्ट्र के नाम से पहचाना जाता है। भारत में रहकर भी देश की यह पहचान कुछ लोगों को नहीं चाहिए।  

कमेंट करें
glZJX