comScore

शरद पवार से मिले प्रशांत किशोर, शिवसेना ने कहा - प्रधानमंत्री बने तो होगी खुशी

शरद पवार से मिले प्रशांत किशोर, शिवसेना ने कहा - प्रधानमंत्री बने तो होगी खुशी

डिजिटल डेस्क, मुंबई। चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने शुक्रवार को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार से मुंबई में उनके आवास पर मुलाकात की। दोनों के बीच बातचीत करीब तीन घंटे चली, जिससे राजनीतिक गलियारों में अटकलें शुरू हो गयी हैं। राकांपा सूत्रों ने बताया कि मौजूदा राजनीतिक स्थिति पर चर्चा के अलावा पवार ने किशोर के लिए भोज का भी आयोजन किया। बैठक दिन में करीब दो बजे बजे तक चली। पर बैठक के बाद पवार के अवास सिल्वर ओक से निकलने के बाद पवार व किशोर में किसी ने भी वहां मौजूद पत्रकारों को कुछ नहीं बताया। तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में क्रमश: द्रमुक और तृणमूल कांग्रेस की जीत के बाद पवार के साथ किशोर की यह पहली मुलाकात है। किशोर ने विधानसभा चुनावों में इन पार्टियों की चुनावी रणनीति बनाने में मदद की थी। विधानसभा चुनावों के बाद किशोर ने कहा था कि अब वह ‘‘इस क्षेत्र’’ को छोड़ रहे हैं। हालांकि उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने इस बैठक को तवज्जो नहीं दिया और कहा किशोर पहले ही कह चुके हैं कि अब वह चुनाव रणनीतिकार नहीं रहेंगे। शिवसेना नेता संजय राऊत ने कहा कि कई नेता किशोर के संपर्क में हैं जबकि राकांपा के छगन भुजबल ने कहा कि उन्हें बैठक के एजेंडा को लेकर कोई जानकारी नहीं है। भुजबल ने कहा कि किशोर एक सफल राजनीतिक रणनीतिकार हैं। उन्हें भरोसा है कि पवार किशोर के सुझावों पर गौर करेंगे। किशोर ने 2019 में उद्धव ठाकरे से मुलाकात की थी, जिसके बाद ठाकरे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बने थे।

शरद पवार प्रधानमंत्री बने तो शिवसेना को होगी खुशीः सावंत

शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता व सांसद अरविंद सांवत ने कहा है कि यदि राकांपा अध्यक्ष शरद पवार देश के प्रधानमंत्री बने तो पार्टी को खुशी होगी। शुक्रवार को चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने पवार से मुलाकात की। दोनों की बैठकपर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुएशिवसेना सांसद सावंत ने कहा कि महाराष्ट्र के मराठी व्यक्ति पवार प्रधानमंत्री बनते हैं तो इससे बड़ा कोई आनंद नहीं होगा। शिवसेना प्रमुख दिवंगत बालासाहब ठाकरे की भी अच्छा थी कि कोई मराठी व्यक्ति देश का प्रधानमंत्री बने। सावंत ने कहा कि पवार उम्र और अनुभव में वरिष्ठ हैं। उन्हें केंद्र सरकार में लंबे समय तक काम करने का अनुभव है। सावंत ने कहा कि लोकतंत्र को बचाने के लिए देश को मजबूत विपक्ष की जरूरत है। फिलहाल विपक्ष के दल बिखरे हुए हैं। सभी दलों को एकजुट करने की जरूरत है। राज्य में तीन दलों की महाविकास आघाड़ी सरकार चल रही है। इसी के तर्ज पर देश में गठबंधन बनना चाहिए। 
 

कमेंट करें
8aoUh