comScore

हवाई सफर में बीच वाली सीट वाले यात्री पहन रहे पीपीई किट

हवाई सफर में बीच वाली सीट वाले यात्री पहन रहे पीपीई किट

डिजिटल डेस्क, नागपुर। संतरानगरी के विमानतल से आने-जाने वाले हवाई यात्रियों की यदि बीच की सीट है, तो उनको पर्सनल प्रोटेक्शन इक्यूसेट (पीपीई) किट दी जा रही है। इसे वह विमान में बैठने से पहले पहनता है, जिससे पास वाली सीट पर बैठे यात्री संपर्क में ना आएं। यदि विमान में यात्री कम है और सीट खाली है, तो यह किट नहीं दी जाती है. बलकि यात्रियों को दूरी बनाकर बैठाया जाता है।

विमान में यात्रा के दौरान सोशल दूरी होनी चाहिए, यह मुद्दा लॉकडाउन के बाद विमान सेवा आरंभ होने के पहले से ही चल रहा है। इतना ही नहीं बीच की सीट पर यात्री ना बैठाने को लेकर भी विषय सामने आया था, लेकिन उसके बाद भी सोशल दूरी का पालन ना हो पाने की वजह से बीच की सीट पर भी यात्री बैठाने का निर्णय लिया गया। इसके बाद अब बीच वाली सीट पर बैठे यात्री को पीपीई किट देने का निर्णय लिया गया, जो गाउन जैसा होता है। जिसे पहनकर यात्री का पूरा शरीर कवर हो जाता है।

इस स्थिति में नहीं देते पीपीई

इन दिनों कुछ उड़ानों में नाममात्र के यात्री आ और जा रहे हैं। 180 सीट वाले विमान में कई बार तो सिर्फ 30 से 40 यात्री ही आते-जाते हैं। ऐसे में विमान में यात्रियों को दूरी बनाकर बैठा दिया जाता है। जिससे उनको पीपीई किट देने की जरुरत नहीं पड़ती है, इसके अलावा उनको मॉस्क, फेस सील्ड और सैनेटाइजर आदि सामान वाली एक अन्य किट भी दी जाती है।

इनका कहना है

प्रीति सावंत मैनेजर एयर इंडिया के मुताबिक यात्रियों को पहले ही सीट नंबर के हिसाब से फिल्टर कर लिया जाता है कि किस की सीट बीच वाली है। उसे एयरोब्रिज के पहले अनाउंस कर किट दे दी जाती है। यदि विमान में यात्री कम है और बीच की सीट खाली है तो किट नहीं दी जाती है।

 

कमेंट करें
mroUc