comScore

कोरोना पर मंथन: पीएम ने 10 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ की बैठक, टेस्टिंग बढ़ाने की अपील


हाईलाइट

  • पीएम नरेंद्र मोदी ने 10 राज्यों के सीएम के साथ की बैठक
  • कोरोना से निपटने के लिए आगे की रणनीति पर की चर्चा

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस का कहर इतनी तेजी से बढ़ रहा है कि संक्रमितों का आंकड़ा 23 लाख के करीब पहुंच गया है। ऐसी स्थिति में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने मंगलवार को महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित 10 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के माध्यम से हुई इस मीटिंग में पीएम मोदी ने राज्यों में कोरोना की स्थिति और इससे निपटने के लिए आगे की रणनीति को लेकर चर्चा की। पीएम ने कहा है कि, जिन राज्यों में टेस्टिंग रेट कम है और जहां पॉजिटिविटी रेट ज्यादा है, वहां टेस्टिंग बढ़ाने की जरूरत है। खासतौर पर बिहार, गुजरात, यूपी, पश्चिम बंगाल और तेलंगाना। यहां टेस्टिंग बढ़ाने पर खास बल देने की बात इस समीक्षा में निकली है।

प्रधानमंत्री मोदी ने आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, पंजाब, बिहार, गुजरात, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्रियों के साथ कोरोना पर चर्चा की। बैठक के बाद पीएम मोदी ने कहा, बातचीत से जमीनी वस्तु-स्थिति की जानकारी और व्यापक होती है। ये भी पता चलता है कि हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। लगातार मिलना, चर्चा करना जरूरी भी है, क्योंकि जैसे-जैसे कोरोना महामारी को समय बीत रहा है, नई-नई परिस्थितियां भी पैदा हो रही हैं। अस्पतालों पर दबाव, स्वास्थ्य कर्मियों पर दबाव, रोजमर्रा के काम में निरंतरता का ना आ पाना, ये हर दिन एक नई चुनौती लेकर आते हैं। 

पीएम ने कहा, आज 80 प्रतिशत एक्टिव केस इन दस राज्यों में हैं, इसलिए कोरोना के खिलाफ लड़ाई में इन सभी राज्यों की भूमिका बहुत बड़ी है। देश में एक्टिव केस 6 लाख से ज्यादा हो चुके हैं, जिनमें से ज़्यादातर मामले इन दस राज्यों में ही हैं। इसीलिए इन सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों के साथ बैठकर समीक्षा और चर्चा करने की आवश्यकता थी। आज की चर्चा से हमें एक दूसरे के अनुभवों से काफी कुछ सीखने समझने को मिला है।

सभी से बात करके ये एक भाव निकलकर आया है कि अगर हम मिलकर अपने इन दस राज्यों में कोरोना को हरा देते हैं, तो देश भी जीत जाएगा। हालांकि टेस्टिंग की संख्या बढ़कर हर दिन 7 लाख तक पहुंच चुकी है और लगातार बढ़ भी रही है। इससे संक्रमण को पहचानने और रोकने में जो मदद मिल रही है। एक्टिव केस का प्रतिशत कम हुआ है, रिकवरी रेट बढ़ा है, तो इसका अर्थ है कि हमारे प्रयास कारगर सिद्ध हो रहे हैं। अहम बात है कि, इससे लोगों के बीच भी भरोसा और आत्मविश्वास बढ़ा है और डर भी कुछ कम हुआ है।

बता दें कि, इससे पहले सोमवार को प्रधानमंत्री ने बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए की गई तैयारियों की समीक्षा करने के लिए बाढ़ से ग्रसित 6 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ मीटिंग की थी। पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए असम, बिहार, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक और केरल के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में राज्यों की स्थिति का जायजा लिया। इस बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने भी हिस्सा लिया था।

पीएम मोदी ने असम,केरल समेत बाढ़ प्रभावित 6 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ की समीक्षा बैठक

गौरतलब है कि, कोरोना के कहर, लॉकडाउन और अनलॉक को लेकर पीएम मोदी समय-समय पर मुख्यमंत्रियों से चर्चा करते आए हैं। बीते 5 महीने में राज्यों के साथ मोदी की यह 7वीं बैठक थी। वहीं भारत में कोरोना मरीजों की कुल संख्या 22 लाख 68 हजार 676 हो गई है। इनमें से 45 हजार 257 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 15 लाख 83 हजार 490 मरीज ठीक हुए हैं। 6 लाख 39 हजार 929 ऐक्टिव केस हैं। कोरोना संक्रमितों की संख्या के हिसाब से भारत अभी भी दुनिया का तीसरा सबसे प्रभावित देश बना हुआ है।

Coronavirus in India: बीते 24 घंटे में 53,601 नए केस, मरीजों की कुल संख्या 22 लाख 68 हजार के पार

कमेंट करें
iTLj9