comScore

हत्या के आरोपी को पुलिस ने भिखारी बनकर पकड़ा 

हत्या के आरोपी को पुलिस ने भिखारी बनकर पकड़ा 

डिजिटल डेस्क,छिंदवाड़ा/जुन्नारदेव। युवक की हत्या के तीसरे आरोपी की तलाश कर रही नवेगांव पुलिस ने आरोपी को भिखारी बनकर पकड़ा। आरोपी भी भोपाल में भिखारी का भेष बनाकर छुपा हुआ था। नवेगांव थाना क्षेत्र में लगभग चार माह पूर्व खिरसाडोह निवासी एक युवक की लाश मिली थी। मृतक की शिनाख्त लगभग दो माह पूर्व ही हुई है। पुलिस ने इस मामले में 8 जुलाई को हत्या के दो आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया लेकिन हत्याकांड का तीसरा आरोपी फरार था। इसी बीच पुलिस को सूचना मिली की आरोपी अतीक पिता मोहम्मद रफीक निवासी गांगीवाड़ा भोपाल में भिखारी बनकर रह रहा है। 

दो दिन तक रखी नजर

पुलिस कप्तान मनोज राय के निर्देशन में नवेगांव थाना प्रभारी बिजेंद्र सिंह सोलंकी के नेतृत्व में पुलिस ने सूचना के आधार पर दो दिनों तक आरोपी पर भिखारी बनकर नजर रखी और भोपाल पुलिस की सहायता से आरोपी को दबोच लिया। आरोपी की पतासाजी और घेराबंदी में उपनिरीक्षक अयाज चांदा, उपनिरीक्षक विजय भांमरे, आरक्षक नितेश सिंह, आरक्षक पुष्पराज रघुवंशी ने अहम भूमिका निभाई। 

साथियों के पकड़े जाने का पता लगते ही भाग गया था आरोपी 

खिरसाडोह निवासी युवक की हत्या में शामिल गांगीवाड़ा निवासी अतीक खान को 8 जुलाई के पहले ही यह पता चल गया था कि उसके अन्य दो साथी पकड़े गए हैं। जिसके बाद आरोपी अपनी मां खातून बी और दिव्यांग भाई तौफीक के साथ घर से भाग गया था। तब से ही आरोपी भेष बदलकर भोपाल में रह रहा था।  

नदी में बही एएनएम को पुलिस ने रेस्क्यू कर बचाया 

बटकाखापा क्षेत्र में मंगलवार की शाम टीकाकरण कर सहायक महिला के साथ फील्ड से वापस लौट रही स्वास्थ्य विभाग की एएनएम अपनी सहायिका के साथ नदी के तेज बहाव में बह गई। इस घटना की सूचना मिलते ही पुलिस ने सक्रियता दिखाई और नदी के बीच फंसी दोनों महिलाओं की जान बचा ली। बताया जा रहा है कि महिला स्वास्थ्य कर्मचारी उर्मिला ठाकुर निवासी गंगई मंगलवार को टीकाकरण करने के लिए बांसखेड़ा गई थी। शाम चार बजे जब वह मुख्यालय बटकाखापा वापस अपनी सहायक महिला हीरा बरकड़े के साथ वापस लौट रही थी। आंचलकुंड रोड पर कुदनी नदी में हाथ पकड़कर रपटा पार करते समय दोनों महिलाएं तेज बहाव में बह गई। महिलाओं ने तेज बहाव में भी साहस दिखाते हुए एक दूसरे का हाथ थामे रखा और नदी के बीच एक स्थान पर जाकर अटक गई। दोनों महिलाओं के नदी में फंसे होने की सूचना मिलते ही बटकाखापा थाना प्रभारी अनिल शर्मा के नेतृत्व में पुलिस ने तत्काल घटना स्थल पर रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया और रस्से की सहायता से कड़ी मशक्कत के बाद गोताखोरों की मदद से लगभग दो घंटे में दोनों महिलाओं को नदी से सुरक्षित बाहर निकाल लिया। 
 

कमेंट करें
abmVw