दैनिक भास्कर हिंदी:  थाने में हवलदार ने लगाई फांसी , सुसाइड के पहले बेटी को किया मैसेज

June 29th, 2019

डिजिटल डेस्क, वरोरा(चंद्रपुर)। वरोरा पुलिस थाने के अपराध शोध पथक के रूम में पुलिस हवलदार ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। सुरेश दादाजी बांबोले (53) ऐसा मृतक पुलिस हवलदार का नाम है। घटना शनिवार की है। सीसीटीवी दिखाने की मांग मृतक के परिजनों ने की। खबर लिखे जाने तक सीसीटीवी फुटेज सामने नही आए थे। मृतक का शव विच्छेदन उपजिला अस्पताल में किया गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार पुलिस हवलदार सुरेश बांबोले 8 जून 2018 से वरोरा पुलिस थाने में कार्यरत थे। पुलिस अधिकारियों को कोई भी पूर्व सूचना न देते हुए तथा अवकाश आवेदन के बिना 17 अप्रैल 2019 से वे ड्यूटी  पर नही थे। उनका परिवार ब्रम्हपुरी में स्थायी होने के चलते वे परिवार के साथ रहते थे। घटना के पहले दिन 28 जून की रात पुलिस थाने में बांबोले आएं। उनके पास डीबी रूम में चाबी होने से वह सीधे रूम में चले गए। उस समय डीबी रूम के कर्मचारी ड्यूटी का समय समाप्त होने पर सभी घर चले गए थे।

29 जून को सुबह 6 से 8 बजे के दौरान उन्होंने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। सुबह 9 बजे के दौरान डीबी स्कॉड के कर्मचारी पहुंचे तब घटना सामने आयी। आत्महत्या करने के पूर्व सुबह 6 बजे उन्होंने अपने बेटी के मोबाइल पर मैसेज किया। उसमें लिखा था कि, 'मै बहन को जगह नही दे पाया। खुद के लिए कुछ नही कर पाया। किसी आरोप की बात नही लिखी गई थी। वहीं परिजनों ने भी किसी पर आरोप नही लगाए हैं। बताया जाता है कि, मृतक का परिवार ब्रम्हपुरी में रहता है। जिससे उस परिसर के थाने में तबादला चाहिए थे। पुलिस अधीक्षक के पास अनुरोध आवेदन करने की खबर है। परंतु तबादला नही हुआ। आत्महत्या के कारणों का खुलासा नही हो पाया। मृतक के परिवार में पत्नी, बेटा, बेटी हैं। 
 
तबादले का विषय था

मृतक पुलिस हवलदार ने अवकाश का आवेदन न देते हुए गैरहाजिर थे। उनके परिवार में संपत्ति का विवाद चलने की जानकारी है। तबादले के लिए उन्होंने वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के पास अनुरोध आवेदन किया था। तबादला  नियम अनुसार ही  होता है। बहरहाल मामले की जांच चल रही है। 
उमेश पाटील, पुलिस निरीक्षक पुलिस स्टेशन, वरोरा. 

खबरें और भी हैं...