दैनिक भास्कर हिंदी: राज्य में लागू होगी प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में होगी कमी

November 21st, 2017

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी लाने और जच्चा-बच्चे के स्वास्थ्य की देखभाल के लिए केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना को महाराष्ट्र में भी लागू किया जाएगा। मंगलवार को राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में इसे मंजूरी दी गई। इस योजना पर खर्च होने वाली रकम का 40 फीसदी हिस्सा राज्य सरकार देगी। केंद्र सरकार ने पिछली 1 जनवरी से इस योजना का शुभारंभ किया था। इस योजना को राज्य में लागू करने के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के निदेशक और स्वास्थ्य सेवा आयुक्त योजना को बतौर राज्य समन्वयक नियुक्त किया गया है। 

मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में होगी कमी, केवल पहली संतान को मिलेगा लाभ
इस योजना का लाभ केवल पहली संतान और सरकार द्वारा अधिसूचित संस्थाओं द्वारा पंजिकृत महिलाओं को मिलेगा। लाभार्थी के बैंक खाते में तीन चरणों में पांच हजार रुपए जमा किए जाएंगे। इस योजना का लाभ वेतन के साथ-साथ मातृत्व अवकाश प्राप्त करने वाली महिलाओं को नहीं मिलेगा। इस योजना को राज्य में लागू करने के लिए 140 करोड़ का प्रावधान किया गया है। 

पूरक मांग के माध्यम से मिलेगी मंजूरी,  पूरे राज्य में लागू होगी योजना
नागपुर अधिवेशन में पूरक मांग के माध्यम से इसे मंजूरी दी जाएगी। यह योजना पूरे राज्य में लागू कि जाएगी। अमरावती व  भंडारा में महिला व बाल विकास विभाग द्वारा लागू इंदिरा गांधी मातृत्व सहयोग योजना बंद कर दी जाएगी।  जबकि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की जननी सुरक्षा योजना जारी रहेगी।

क्या है प्रधानमंत्री मातृवंदन योजना?
भारत सरकार की पूर्व में संचालित इंदिरा गांधी मातृत्व सहयोग योजना के बाद प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना शुरू की गई। इसके तहत गर्भवती या शिशुवती माताओं और उनके छह माह तक के शिशुओं के स्वास्थ्य और पोषण की स्थिति में सुधार लाने, व्यवहार परिवर्तन करने के साथ ही जागरूकता लाने का प्रयास किया जाएगा। शर्तें पूरी करने पर हितग्राहियों को तीन किश्तों में रुपए मिलेंगे।