नया साल और नई उम्मीदें: इस साल शुरु होगा नागपुर से शिर्डी तक समृद्धि महामार्ग

December 31st, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। नए साल 2022 में प्रदेशवासियों को नागपुर-मुंबई हिंदू हृदयसम्राट बालासाहब ठाकरे महाराष्ट्र समृद्धि महामार्ग परियोजना की सौगत मिलेगी। नागपुर से शिर्डी तक के लगभग 520 किमी ‘समृद्धि महामार्ग’ का काम नए साल में मार्च महीने तक पूरा होने की उम्मीद है। इससे सड़क मार्ग से विदर्भ अंचल से मुंबई की ओर आने वाले लोगों का सफर आसान हो सकेगी। शुक्रवार को प्रदेश के महाराष्ट्र राज्य सड़क विकास महामंडल के (एमएसआरडीसी) के राज्य मंत्री संजय बनसोडे ने ‘दैनिक भास्कर’ से बातचीत में कहा कि सरकार ने नागपुर से शिर्डी तक के महामार्ग का निर्माण कार्य मार्च महीने तक पूरा करने का लक्ष्य दिया है। हमें उम्मीद है कि परियोजना का काम तय समय में पूरा हो जाएगा। बनसोडे ने कहा कि सरकार ने बीते 1 मई को महाराष्ट्र दिवस के मौके पर नागपुर से शिर्डी तक के समृद्धि महामार्ग पर आवाजाही शुरू करने की तैयारी की थी। लेकिन कोरोना महामारी संकट के चलते इस परियोजना के निर्माण काम का लक्ष्य निर्धारित समय पर पूरा नहीं पाया। एमएसआरडीसी ने नागपुर से मुंबई तक के महामार्ग पर टोल वसूली के ठेके के लिए टेंडर जारी किया है। इस महामार्ग पर कुल 26 टोल नाके होंगे। महामार्ग पर एमएसआरडीसी की ओर से टोल वसूली किया जाएगा। ठेकेदार कंपनी केवल मानव संसाधन उपलब्ध कराएगी। नागपुर-मुंबई समृद्धि महामार्ग 701 किमी लंबा होगा। महामार्ग आठ लेन का बनाया जाएगा। इसका निर्माण कार्य पूरा होने के बाद नागपुर से मुंबई तक लगभग 7 घंटे में यात्रा पूरी हो सकेगी। इस महामार्ग के दोनों किनारे सुरक्षा की दृष्टि से दीवार होगी। 

समृद्धि महामार्ग नागपुर, वर्धा, वाशिम, बुलढाणा, औरंगाबाद, नाशिक समेत 10 जिलों की 26 तहसीलों और 392 गांवों से होकर गुजरेगा। समृद्धि महामार्ग का निर्माण कार्य पूरा होने के बाद राज्य के 24 जिले एक-दूसरे से जुड़ जाएंगे। समृद्धि महामार्ग परियोजना के निर्माण पर कुल 55 हजार 335 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इसके पहले पूर्व की भाजपा-शिवसेना युति सरकार ने नागपुर-मुंबई समृद्धि महामार्ग के निर्माण का फैसला लिया था। समृद्धि महामार्ग तत्कालीन मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की महत्वाकांक्षी परियोजना थी।