comScore

रेलवे ग्रुप (डी) भर्ती के छात्रों का धरना जारी, 4 साल की बच्ची के साथ बैठी नागपुर की प्रीति

रेलवे ग्रुप (डी) भर्ती के छात्रों का धरना जारी, 4 साल की बच्ची के साथ बैठी नागपुर की प्रीति

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। रेलवे ग्रुप (डी) भर्ती परीक्षा से लाखों छात्रों का आवेदन रद्द करने के खिलाफ जंतर-मंतर पर मंगलवार को भी धरना जारी रहा। बेराेजगारी के खिलाफ चल रहे राष्ट्रव्यापी आंदोलन युवा-हल्लाबोल के बैनर तले प्रभावित अभ्यर्थियों ने अपनी आवाज यहां बुलंद की। यह मामला पांच लाख से ज्यादा छात्रों का अन्यायपूर्ण ढंग से आवेदन रद्द किए जाने और फिर छात्रों की शिकायतों पर कोई सुनवाई नहीं होने से जुड़ा है।

बता दें कि रेलवे की ग्रुप डी भर्ती के लिए आवेदन करने वाले लाखों अभ्यर्थियों को तस्वीर या हस्ताक्षर के नाम पर परीक्षा से बाहर कर दिया गया है। धरने पर बैठे छात्रों के समर्थन में युवा हल्लाबोल का नेतृत्व कर रहे अनुपम भी पहुंचे और उन्हें न्याय दिलाने का भरोसा दिया। खास बात यह कि नागपुर की प्रीति दुधे जिनका आवेदन रद्द हुआ है, भी अपनी चार की बच्ची के साथ अपनी मांगों के समर्थन में यहां धरने पर बैठी हैं।

प्रीति का कहना है कि भर्ती प्रक्रिया से बाहर रखकर रेल मंत्रालय हम जैसे लाखों छात्रों का भविष्य खराब करने पर तुला है। नागपुर के ही रेलवे अभ्यर्थी गौतम वहाने ने कहा कि हमारे साथ यह बड़ा अन्याय है कि सालों साला रेलवे भर्ती की तैयारी करने के बाद सरकार हमें इस अवसर से वंचित कर रही है।  उन्होने मांग की कि रेलवे तस्वीर और हस्ताक्षर दर्ज कराने के लिए हमें मोडिफिकेशन लिंक दे। युवा हल्लाबोल के रजत ने बताया कि सभी छात्रों से रेलवे ने 500 रूपये आवेदन शुल्क लिया है। ऐसे में यदि पांच लाख से ज्यादा बेरोजगारों को अवसर से वंचित करके यह सरकार करोड़ों रूपये अपनी जेब में डाल रही है।

 

कमेंट करें
RXn7m