comScore

कांग्रेस पदाधिकारियों से मिले राहुल गांधी, टिकटों को लेकर सुनी शिकायत

October 15th, 2019 19:47 IST
कांग्रेस पदाधिकारियों से मिले राहुल गांधी, टिकटों को लेकर सुनी शिकायत

डिजिटल डेस्क, नागपुर। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को शहर के प्रमुख पार्टी पदाधिकारियों के साथ विमानतल पर चर्चा की। उनसे मिलने के लिए कांग्रेस उम्मीदवार भी पहुंचे थे। उम्मीदवार तय करने को लेकर कुछ पदाधिकारियों ने शिकायत भी की। गांधी शिकायतें सुनने के मूड में नहीं थे। उन्होंन पदाधिकारियों से कहा कि टिकट तो पार्टी के नेताओं ने सहमति से तय की है। जो भी निर्णय लिया गया है उसका सभी ने स्वागत करना चाहिए। गांधी यवतमाल व अमरावती में चुनाव प्रचार के सिलसिले में यहां आए थे। दोपहर करीब 1.30 बजे बाबासाहब आंबेडकर विमानतल पर दिल्ली के विमान से पहुंचे। बाद में हेलीकाप्टर से प्रचार सभा के लिए रवाना हुए। उनके साथ कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी मलिकार्जुर खरगे, प्रदेश अध्यक्ष बालासाहब थोरात, विजय वडेट्टीवार, सतीश चतुर्वेदी, अनीस अहमद जैसे नेता थे। नागपुर जिले से शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्र के कांग्रेस उम्मीदवार भी थे। करीब 10 मिनट तक श्री गांधी ने पार्टी  पदाधिकारियों से चर्चा की। आरंभ में ही पूर्व शहर अध्यक्ष शेख हुसैन ने मुस्लिम समुदाय के प्रतिनिधि को कांग्रेस में उम्मीदवार नहीं बनाए जाने की शिकायत की। श्री हुसैैन ने कहा कि पहले इस समुदाय के प्रतिनिधि को उम्मीदवार बनाया जाता था। अब समाज के लोगों को लगता है कि उन्हें नजरअंदाज किया जा रहा है। महिला कांग्रेस की शहर अध्यक्ष प्रज्ञा बड़वाइक ने महिलाओं को उम्मीदवारी का प्रश्न उठाया। उन्होंने कहा कि जिले में एक भी सीट के लिए कांग्रेस सहित अन्य प्रमुख दलों ने महिला उम्मीदवार मैदान में नहीं उतारे हैं। दक्षिण पश्चिम के उम्मीदवार आशीष देशमुख ने श्री गांधी से उनके क्षेत्र में चुनाव प्रचार सभा का आव्हान किया। देशमुख ने कहा कि वह भाजपा से अमेठी का बदला लेना चाहते हैं। कांग्रेस के युवा नेता धीरज पांडे, आमिर नूरी व अन्य ने राहुल गांधी का आभार माना।

उम्मीदवार को रोका

राहुल गांधी से मिलने के लिए पहुंचे बंटी शेलके को सुरक्षा अधिकारियों ने गेट पर ही रोक दिया। शेलके कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। उनके विरुद्ध पुलिस थानों में प्रकरण दर्ज है। लिहाजा दर्ज प्रकरणों को देखते हुए पुलिस ने शेलके का नाम राहुल गांधी से मिलनेवालों की सूची से हटा दिया था। स्थिति को देखते हुए मल्लिकार्जुन खड़गे

 सामने आए। उनके कहने पर शेलके को श्री गांधी से मिलने जाने दिया गया। 

कमेंट करें
LNvPq