comScore

भाजपा में समा गई राणे की पार्टी, मुख्यमंत्री ने नितेश को दी संयम में रहने की सलाह

October 15th, 2019 19:48 IST
भाजपा में समा गई राणे की पार्टी, मुख्यमंत्री ने नितेश को दी संयम में रहने की सलाह

डिजिटल डेस्क, मुंबई। कांग्रेस से अलग होकर नई पार्टी बनाने वाले प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे को महज दो साल में अपने दल ‘महाराष्ट्र स्वाभिमान पक्ष’ का भाजपा में विलय करना पड़ा है। जुलाई 2005 में शिवसेना छोड़ने के बाद भाजपा तीसरी पार्टी है जिसमें राणे शामिल हुए हैं। मंगलवार को सिंधुदुर्ग के कणकवली में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की मौजूदगी में नारायण राणे के पूर्व सांसद बड़े बेटे नीलेश राणे भाजपा में शामिल हो गए। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने राणे के दल के भाजपा में विलय करने की घोषणा की। गौरतलब है कि नारायण राणे पहले से ही भाजपा के राज्यसभा सदस्य हैं। कणकवली में आयोजित सभा में  मुख्यमंत्री ने नारायण राणे के बेटे व कणकवली से भाजपा उम्मीदवार नितेश राणे को आक्रमकता के साथ संयम बरतने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि नितेश को अपने पिता नारायण से सीखना चाहिए। जहां पर जरूरत पड़ती है नारायण आक्रामक तेवर अपनाते हैं लेकिन जिस जगह संयम की जरूरत होती है वहां पर वे संयमित रहते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि आक्रामकता नितेश का स्थायी भाव है क्योंकि वे नारायण राणे के स्कूल में तैयार हुए हैं। लेकिन उन्हें अब भाजपा के स्कूल में भी थोड़ा सिखना है। हमे उन्हें संयम बरतने की सीख देंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि नितेश को चुनाव शांति, प्रेम और जनता के बीच में जाकर लड़ना चाहिए। कुछ लोग उकसाने की कोशिश करेंगे लेकिन हमें उन्हें जवाब देने की जरूरत नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि नारायण के अनुभव का फायदा भाजपा के विस्तार में होगा। साथ ही सरकार चलाने में मदद मिल सकेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि चुनाव बाद नए मंत्रिमंडल की बैठक सिंधुदुर्ग में बुलाई जाएगी। वहीं नारायण ने कहा कि मैं कुछ हासिल करने के लिए भाजपा में नहीं आया हूं। भाजपा में व्यक्ति से ज्यादा विचार को महत्व दिया जाता है। 

नितेश के लिए मुख्यमंत्री की भविष्यवाणी

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं भविष्यवाणी करता हूं कि कणकवली सीट पर होने वाली कुल वोटिंग में से 65 से 70 प्रतिशत वोट नितेश को मिलेंगे। जबकि 35 से 30 प्रतिशत वोट बाकी के सभी उम्मीदवारों के हिस्से आएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि डायरी में नोट कर लीजिए मेरी भविष्यवाणी 100 प्रतिशत सच निकलेगी। मुख्यमंत्री ने अपने भाषण में शिवसेना का नाम नहीं लिया। नितेश के खिलाफ शिवसेना ने सतीश सावंत को उतारा है। 

कमेंट करें
3AURh