comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

जमीन विवाद पर बोले राऊत - अगले 25 साल तक विपक्ष में ही रहेगी भाजपा

जमीन विवाद पर बोले राऊत - अगले 25 साल तक विपक्ष में ही रहेगी भाजपा

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और आत्महत्या करने वाले इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाईक के परिवार के बीच जमीन के सौदे को लेकर आरोप लगाने वाले भाजपा के पूर्व सांसद किरीट सोमैया शिवसेना सांसद संजय राऊत बिफर पड़े हैं। शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत में राऊत ने सोमैया को महाराष्ट्र का दुश्मन बताया। उन्होंने कहा कि मेरी सोमैया को चेतावनी है वे चाहे जितना फड़फड़ाए लें महाराष्ट्र की सरकार पांच साल तक चलेगी और भाजपा अगले 25 साल तक विपक्ष में रहेगी

राऊत ने कहा कि राज्य में सरकार बनाने की इच्छा रखने वाली व्यापारी (भाजपा), व्यापारियों के दलालों और उनके सरदारों को 5 नहीं 25 साल तक घर बिठाएंगे। राऊत ने कहा कि जमीन सौदे की जांच के लिए सोमैया प्रवर्तन निदेशालय (ईडी), सीबीआई, इंटरपोल समेत जहां चाहे जा सकते हैं। राऊत ने पूछा कि इस मामले का ईडी से क्या संबंध है? ईडी क्या तुम्हारे बाप की नौकर है? राऊत ने कहा कि खुद भ्रष्टाचारी हैं। खुद के मुंह से गोबर की बदबू आ रही है और दूसरे का मुंह सुंघ रहे हैं।

राऊत ने कहा कि सोमैया को जमीन सौदे के बारे में क्या मालूम है? साल 2014 में कानून के तहत जमीन का सौदा किया गया है। मराठी आदमी द्वारा किया गया जमीन का सौदा उनकी आंखों में चूभ रहा है क्या? राऊत ने कहा कि सोमैया ने 21 जमीन के सौदे का आरोप लगाया है। वे 5 सौदे का सातबारा दिखाकर बताएं। सोमैया के सभी आरोप झूठे हैं। राऊत ने कहा कि आत्महत्या करने वाले नाईक की पत्नी और उनकी बेटी पिछले कई महीनों से न्याय मांग रही हैं। लेकिन सोमैया आत्महत्या करने वाले नाईक के बारे में कुछ नहीं बोलते। हमारी भूमिका नाईक के परिवार को न्याय दिलाने की है। सोमैया को इस मामले के आरोपी व रिपब्लिक टीवी के पत्रकार अर्णब गोस्वामी को बचाना है। गोस्वामी सोमैया के कौन लगते हैं?

हिम्मत है तो हाथ लगाकर दिखाए शिवसेना: सोमैया

राऊत के बयान पर सोमैया ने शिवसेना पर पलटवार किया। सोमैया ने कहा कि शिवसेना मुझे चेतावनी न दे। यदि पार्टी में हिम्मत है तो मुझे हाथ लगाकर दिखाए। सोमैया ने कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की पत्नी रश्मी ठाकरे ने अभी तक जमीन खरीदी के कुल 40 सौदों की घोषणा की है। इसमें से उन्होंने 30 सौदे अन्वय नाईक परिवार के साथ किया है। मैंने मुख्यमंत्री से केवल पांच सवाल पूछे थे। मेरे सवालों के जवाब देने की हिम्मत मुख्यमंत्री में नहीं है। इसलिए शिवसेना मुद्दे को भटकाने का प्रयास कर रही है। सोमैया ने कहा कि मैंने जमीन सौदे को लेकर जो दस्तावेज सार्वजनिक किए हैं यदि वे गलत है तो शिवसेना सांसद राऊत मेरे खिलाफ पुलिस स्टेशन में जाकर मामला दर्ज कराकर मुझे जेल भिजवाएं।
 

कमेंट करें
hiLx4
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।