बड़ा आरोप : चार किलोमीटर बारिश में पैदल चल कर पहुंचा मुंबई, शिवसेना विधायक पाटील ने सुनाई आपबीती 

June 23rd, 2022

डिजिटल डेस्क, मुंबई। शिवसेना के बागी विधायक तथा प्रदेश के नगर विकास मंत्री एकनाथ शिंदे के गुट से बाहर निकलकर महाराष्ट्र वापस लौटने वाले शिवसेना के अकोला के विधायक नितीन देशमुख और उस्मानाबाद के विधायक कैलास पाटील ने गुरुवार को अपनी आपबीती सुनाई। देशमुख ने कहा कि मुझे गुजरात के सरकारी अस्पताल में जबरन भर्ती कराया गया था। अस्पताल में मुझे कोई बीमारी नहीं होने के बाद भी जबरदस्ती इंजेक्शन लगाया गया। देशमुख ने दावा करते हुए कहा कि मैंने सूरत से निकलकर आने की कोशिश की थी। लेकिन भारी भरकम पुलिस सुरक्षा के कारण मुंबई लौट नहीं सका। इसके बाद मैं बागी विधायकों के साथ गुवाहाटी गया। फिर मैं अपने प्रयासों से 22 जून को महाराष्ट्र में लौटा। वहीं पाटील ने कहा कि मैं सूरत से मुंबई आने के लिए चार किमी मीटर बारिश में भीगते हुए पैदल चला। फिर एक उत्तर भारतीय ट्रक चालक की मदद से मुंबई के दहिसर तक पहुंचा। जिसके बाद मैंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पूरी घटना क्रम के बारे में जानकारी दी। 

देशमुख की फोटो जारी कर शिंदे गुट ने आरोपों को बताया गलत 

दूसरी ओर शिंदे गुट ने विधायक देशमुख और पाटील के आरोपों का खंडन किया है। शिंदे गुट ने एक तस्वीर जारी करके कहा कि देशमुख को गुवाहाटी से अकोला तक निजी विमान से शिंदे के समर्थकों ने सम्मान पूर्वक पहुंचाया है। इसलिए देशमुख का यह दावा गलत है कि वे अपने प्रयास से महाराष्ट्र लौटे हैं। वहीं शिवसेना के बागी विधायक तानाजी सावंत ने कहा कि विधायक पाटील को गुजरात के सूरत से मुंबई आने के लिए मैंने ही वाहन की व्यवस्था की थी। सावंत ने कहा कि पाटील मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से सहानभूति पाने के लिए झूठा आरोप लगा रहे हैं।  

 

खबरें और भी हैं...