दैनिक भास्कर हिंदी: रिकॉर्ड : 25 हजार विद्यार्थियों ने एक साथ किया योग, सिंगापुर से गडकरी ने दी बधाई

January 7th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। योग को लेकर एक और नया रिकार्ड बना। शनिवार को यशवंत स्टेडियम में 150 स्कूलों के 25 हजार विद्यार्थियों ने एक साथ योग किया। कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी सिंगापुर में थे। उन्होंने फोन से संपर्क कर उपस्थित विद्यार्थियों को बधाई दी। स्पर्धा को मिले भारी प्रतिसाद को देखते हुए अगले वर्ष यह आंकड़ा 50 हजार तक ले जाने का भरोसा दिया गया। स्व. भानुताई गडकरी अंतरशालेय सांघिक योगासन स्पर्धा 2018 का आयोजन किया गया। केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितीन गडकरी की मातोश्री भानुताई गडकरी योगाभ्यासी मंडल के संस्थापक जनार्दन स्वामी की शिष्या और योग शिक्षिका थीं। स्वामी की 125वीं जयंती पर शिक्षा विभाग के सहयोग से योगाभ्यासी मंडल, रामनगर नागपुर ने 25 हजार शालेय विद्यार्थियों की योगासन स्पर्धा का शनिवार को यशवंत स्टेडियम में आयोजन कर स्पर्धा को स्वर्गीय भानुताई का नाम दिया। स्पर्धा में लगभग 150 स्कूलों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम में कांचन गडकरी, पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले, विधायक सुधाकर कोहले, कृष्णा खोपड़े, महापौर नंदा जिचकार, धरमपेठ जोन सभापति रूपा राय, एसएनडीटी विद्यापीठ मुंबई के कुलगुरु शशिताई वंजारी, नगरसेवक सुनील बिटनवार, संजय बंगाले उपस्थित थे। 

अलग अलग आसन कर किया ध्यानाकर्षण

शनिवार को सुबह 7.30 बजे कार्यक्रम की शुरुआत हुई। प्रमुख अतिथि, विधायक व अन्य मान्यवरों ने दीप प्रज्वलित कर भानुताई की प्रतिमा पर पुष्पमाला अर्पित किया। इसके बाद स्वागत गीत हुआ। सभी उपस्थित बालकों ने सांघिक योगासन स्पर्धा की शुरुआत की। स्पर्धा के लिए पिछले 2 महीने से योगाभ्यासी मंडल व शाला के शिक्षक अथक प्रयास कर रहे थे। मंडल के योग गीत के स्वर व ताल पर विद्यार्थी अलग-अलग आसन कर तालबद्धता और लय पर प्रदर्शन कर सबका ध्यान आकर्षित कर रहे थे। इससे पहले 2 स्पर्धा (परीक्षा) हुई थी। शनिवार को अंतिम परीक्षा के बाद अंकसूची तैयार की गई। सभी मापदंडों पर खरे उतरने वाले खासकर सांघिकता, लयबद्धता, तालबद्धता, मौन पर तीन  शालाओं को पुरस्कार प्रदान किया गया। मॉडर्न नीरी स्कूल, श्रेयस माध्यमिक शाला वर्धमान नगर, भारती कृषि विद्यालय को पुरस्कृत किया गया। 

सिंगापुर से गडकरी ने फोन पर दी बधाई 

इस दौरान कांचन गडकरी ने कहा कि स्वर्गीय भानुताई के दमा का रोग योगाभ्यास के जरिये स्वामीजी ने ठीक किया था। योग करेंगे तो खुश रहेंगे, खुश रहेंगे तो मस्त रहेंगे, यह संदेश कांचन गडकरी ने दिया। महापौर नंदा जिचकार ने कहा कि योग सु:ख का मंत्र होने से विद्यार्थी इसे नियमित करें। पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने कहा कि योगाभ्यासी मंडल के माध्यम से योग शिक्षा लेने वाले विद्यार्थियों का सक्षमीकरण हो रहा है। अब हर साल यह कार्यक्रम लिया जाएगा। अगले साल 50 हजार विद्यार्थी इसमें शामिल होंगे। योगाभ्यासी मंडल के कार्यवाह राम खांडवे गुरुजी ने आभार प्रदर्शन किया।