comScore

डकैतों ने पुलिस टीम पर दागी गोली,एसआई और आरक्षक घायल, चार आरोपी गिरफ्तार

डकैतों ने पुलिस टीम पर दागी गोली,एसआई और आरक्षक घायल, चार आरोपी गिरफ्तार

डिजिटल डेस्क, छिंदवाड़ा। उमरानाला चौकी क्षेत्र के ग्राम उमरिया में डकैती और हत्या करने वाले गिरोह का सुराग लगते ही पुलिस टीम ने बुधवार तड़के नागपुर रोड स्थित सर्रा के समीप आरोपियों को घेर लिया। पुलिस को देखते ही गैंग के सरगना देवी ने फायर कर दिया। स्विफ्ट कार में सवार चार बदमाशों को पुलिस टीम ने गिरफ्तार कर लिया। वहीं एक आरोपी फरार होने में कामयाब हो गया। इसी गैंग ने सारणी के बगडोना में एसबीआई के एटीएम को काटने का भी प्रयास किया था। यहां कामयाब न होने पर गैंग ने उमरिया में डकैती की वारदात को अंजाम दिया। पुलिस अधीक्षक मनोज राय ने बताया कि 25-26 जुलाई की रात उमरिया में पाठे परिवार के घर 7 से 8 बदमाश डकैती करने घुसे थे। विरोध करने पर बुजुर्ग फकीरा पाठे के सिर पर रॉड मारकर आरोपियों ने उनकी हत्या कर दी थी। डकैती के बाद आरोपी सिवनी से मंडला और फिर नागपुर भाग गए थे। मुखबिर से सूचना मिली थी कि आरोपी दोबारा डकैती के लिए छिंदवाड़ा आ रहे है। इस सूचना के आधार पर टीमें गठित कर नाकेबंदी की गई थी। एक टीम को बुधवार तड़के नागपुर की ओर से आती एक स्विफ्ट कार दिखाई दी। रोकने पर कार सवार आरोपी देवा ने टीम पर एक फायर किया था। टीम ने आरोपियों को घेराबंदी कर दबोच लिया। पुलिस टीम ने बिछुआ के डोंगरगांव निवासी देवा उर्फ देवराव पिता नेतराम किरार (36), महाराष्ट्र के भंडारा के ग्राम बेला निवासी रवि उर्फ महाराज पिता रामप्रसाद दुबे (30), चेतन पिता रमेश गायधने (33), सिवनी के ग्राम मैनापिपरिया निवासी रमेश उर्फ रोजगारी पिता गोकूल ठाकरे (30) को गिरफ्तार किया गया है। वहीं सारंगबिहरी निवासी श्रवण उर्फ गोलू भागने में कामयाब हो गया।

एसआई और आरक्षक घायल

आरोपी देवी के फायर करने के बाद उमरानाला चौकी प्रभारी दीपक डेहरिया और कोतवाली में पदस्थ आरक्षक परवेज ने उसे पकड़ने का प्रयास किया। इस दौरान हुए संघर्ष में एसआई और आरक्षक दोनों को चोटें आई है। हालांकि आरोपी द्वारा किए गए फायर में कोई हताहत नहीं हुआ है। 

पुलिस की वर्दी भी बरामद

एसपी मनोज राय ने बताया कि आरोपियों की बिना नम्बर वाली कार में मध्यप्रदेश के आरक्षक की वर्दी मिली है। पूछताछ कर पता लगाया जा रहा है कि आरोपियों ने वर्दी पहनकर कितने अपराधों को अंजाम दिया है। वहीं यह भी जांच की जा रही है कि कोई पुलिसकर्मी तो आरोपियों से मिला नहीं है। 

एक पिस्टल और देशी कट्टा जब्त

आरोपियों से एक पिस्टल, 12 बोर का देशी कट्टा, लोहे की रॉड जब्त की गई है। जिसके बल पर गैंग डकैती जैसी वारदातों को अंजाम दिया करते थे। वहीं आरोपियों से एटीएम काटने में उपयोग किए जाने वाले उपकरण और सीसीटीवी कैमरे में डालने के लिए काला स्प्रे भी जब्त किया गया है। 

राजमिस्त्री है एक आरोपी

एसपी के मुताबिक घटना के वक्त फरार आरोपी श्रवण उर्फ गोलू राजमिस्त्री का भी काम करता है। गोलू ने कुछ समय पहले फकीरा पाठे के घर पर राजमिस्त्री का कार्य किया था। इस दौरान उसे परिवार पैसे वाला लगा। जिसके चलते उसने साथियों के साथ मिलकर डकैती की वारदात को अंजाम दिया।

21 साल में 21 संगीन अपराध दर्ज

हर्रई एटीएम कांड में भी आरोपी रह चुके देवी उर्फ देवराव पर लूट, डकैती और एटीएम काटने जैसे कई मामले दर्ज है। बीते 1998 से अभी तक उसके खिलाफ अलग-अलग थानों में 21 प्रकरण दर्ज हो चुके है। इसी तरह रवि महाराज पर हर्रई एटीएम कांड के अलावा बालाघाट, सिवनी समेत अन्य थानों में कई मामले दर्ज है। 
 

कमेंट करें
kwJTG